पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/२४१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

भारत २३५ में जोरों की चर्चा चल पडी थी । पार्लमेन्ट के दोनों हाउसों में भारत-सम्बन्धी सरकारी नीति की निन्दा कीगई । तब जुलाई १९४१ में एक श्वेत-पत्र प्रकाशित हुया, जिसमें कहा गया कि युद्ध-काल में समस्त भारत के सहयोग के लिये एक केन्द्रिय युद्ध-सलाहकारी बोर्ड बनाया जायगा और वाइसराय की कार्यकारिणी कौंसिल में हिन्दुस्तानी सदस्य वढा दिये जायेंगे | काग्रेस ने सरकार के इन प्रस्तावों को स्वीकार नहीं किया । मुसलिम लीग भी इनसे सन्तुष्ट नहीं हुई । वह वाइसराय की कौसिल में अपना बहुमत मॉगती थी। पॉच सदस्य वाइसराय की कार्यकारिणी में इस अवसर पर बढ़ा दिये गये ।। | मि० जिन्ना ने इस पर कहा कि, “यह तो कोरा दिखावा है । इसके द्वारा तो सरकार के अधिकार और शक्ति में वास्तविक भाग नहीं मिला। निर्दल सम्मेलन के नेता डा० जयकर ने कहा कि, “एक भी असली विभाग तो योरपियन के हाथ से भारतीय के हाथ में नहीं आया | मि० एमरी अव भी पुरानी ब्रिटिश नीति, अविश्वास और सन्देह, को ग्रहण किये जारहे है । फरवरी १९४२ मे फिर निर्दल सम्मेलन की बैठक हुई । डा० जयकर ने इसमें बलपूर्वक कहा कि, “विना जनता को साथ लिये सरकार इतने बडे युद्ध को कदापि नही चला सकती । हम भारत में मलय की स्थिति को नहीं देखना चाहते । इटा, और हमें अपनी रक्षा का काम संभालने दो ।” उनसे अगले महीने सर तेज तथा अन्य निर्दल नेताशों ने फरवरी के सम्मेलन के प्रस्ताव * न्नाधार पर भि० चर्चिल से अपील की । अगस्त १९४१ की अटलांटिक योजना भी अपने साथ कुछ नी लाई । र तो उस पर मौन रही, किन्तु लिबरल नेता प० हृदयनाथ न. ने स पर कदा शि. इस प्रकार की योजनाएँ र समझोत भारत के लिये तो र य न १ । अटलांटिक योजना पर भारत के क्ष्ताक्षर * लिये । ३ वा अपने भविष्य में प्रश्र र विवाद उत्पन्न , नि त । ५” तन्नता प्राप्त नई। र सपती, जिरा वचन 5 दूसरे में बता { २५ * *र भी चोः विरोधाभास से पता * " दर '४१ में मार ने कुछ इदान दिग्गः । म्न्यादि : : दि दान्त न्य नदिन ! : :