पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/२७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
अमरीकन मज़दूर संघ
 


में, इस संघ की स्थापना हुई थी। गोम्पर्स न्यूयार्क नगर का एक सिगरेट बनानेवाला था। सन १८७७ मे इसने न्यूयार्क के सिगरेट बनानेवालो का संगठन किया। इस संघ के सिद्वान्त यह है--समस्त उत्तरी अमरीका में प्रत्येक व्यापार के लिए एक मजदूर संघ हो, दो संघ न होने चाहिए। इस संघ के मज़दूर व्यक्तित्व रूप से सदस्य नहीं है, प्रत्युत् मज़दूर-यूनियन इसकी सदस्य है। इस संघ मे १०० स्थानीय मज़दूर यूनियन शामिल है। पूर्ण सत्ता इन मज़दूर सभाओ के हाथ मे है। हड़ताल आदि करने का निश्चय भी वे ही करती है। अमरीकन मज़दूर-संघ के अधिकार नैतिक हैं और उसके अधिकार केवल सलाह देते है। इसकी एक कार्य-कारिणी सभा है, जिसका ४९ राज्यो के मज़दूर संघो पर प्रभाव है। ओटावा में कनाडा की एक स्वतत्र कनाडियन कांग्रेस भी है।

अमरीकन मज़दूर-संघ का अधिवेशन प्रति वर्ष एक बार होता है। सन् १९२० मे जो मज़दूर सभाऍ इस सघ की सदस्य थी, उनके कुल सदस्य ४०,००,००० थे। सन् १९३३ मे यह सख्या २१,००,००० रह गई। सन् १९३८ में ३३,००,००० होगई। इस संघ ने अमरीका के १५ फीसदी से अधिक मज़दूरों का संगठन नही किया है।

अमरीका के मज़दूरों मे, यूरोपीय मज़दूरों की भाँति, वर्ग-चेतना का जागरण नही हुआ है। मिल-मालिक सरकारी सहायता से इनके आन्दोलन को दबाने का सदैव प्रयत्न करते है। मज़दूर-सभाऍ मिल-मालिको, से मज़दूरों के हितो की रक्षा के लिए सामूहिक समझौते करती है। वे उनसे यह कहती हैं कि मिलो मे सिर्फ मज़दूर-सभाओं के मज़दूरों को ही रखा जाय। जो मिल-मालिक मज़दूर सभाओं को स्वीकार कर लेते है उनसे मज़दूर-सभाऍ यह अनुरोध करती है कि उनके द्वारा तैयार माल पर मज़दूर सभा की छाप (यूनियन लेबिल) लगाया जाय। मज़दूर-सभाओं के सदस्यो को भी यह कहा जाता है कि वे माल ख़रीदते समय ऐसे लेबिल के माल को ही ख़रीदे।

अमरीकन मज़दूर संघ यूरोपियन मज़दूर-सघो से कई बातो मे भिन्न है। यह संघ समाजवाद-विरोधी है तथा राजनीति से पृथक् रहता है। वह अमरीकन मज़दूर-दल बनाना नही चाहता। वह अपना उद्देश्य, पूँजीवादी-व्यवस्था के