पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/२९०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२६४ मुसोलिनी मुसोलिनी ने समस्त राष्ट्र को अपने ‘जिसकी लाठी उसकी भेस' मत की दीक्षा दी है। यही उसका फासिस्त दल है । इटली में फासिस्त दल ही अकेला राजनीतिक दल है। उसके प्रत्येक सदस्य को मुसोलिनी की हर प्रकार से प्राजा माननी पड़ती है । फासिस्त काली कुर्सी पहनते हैं तथा हाथ ऊँचा उठाकर, रोमन प्रकार से, परस्पर नमस्कार करते हैं। उनकी विचारधारा तथा संगठन सैनिक है । उनके विधान में लिखा है कि फ़ासिस्त दल नागरिको की एक सैन्य है जो मुसोलिनी की आज्ञा पर राष्ट्र-सेवा के लिये तत्पर रहती है । इसका महदुद्देश्य स सा में अतालवी (इटालियन) राष्ट्र की महत्ता स्थापित करना है । फासिज्म हिंसा को मानता है, नागरिक स्वाधीनता को अस्वीकार करता है और सम्पूर्ण-सत्तावादी है । युवकों के संगठन और उनकी शिक्षा पर भी उसका नियत्रण है । ६ से १२ वर्ष की आयुवाले बच्चो के सङ्गठन का नाम ‘बलिल्ला' है; १२ से १८ की उम्रवाल की सस्था ‘अवंगार्दिया' कहलाती है । इन संस्थाओं के सदस्यों की अपनी बर्दियाँ हैं और इनके सदस्यों को फौजी तालीम लेनी पड़ती है । १८ वर्ष के जवान युवको को फासिस्त दल में भर्ती किया जाता है । सन् १९२७ मे इस दल के दस लाख सदस्य थे । फासिस्त दल साम्राज्यवादी और राष्ट्रवादी है । वह पुरातन रोमन साम्राज्य की परम्परा को पुनर्जीवित करने का इच्छुक है और राष्ट्र को सिपाहियाना बनाकर अनुशासन और व्यवस्था तथा श्रमशीलता की शिक्षा देता है । इस दल की सर्वोच्च संस्था फासिस्त ग्राड कौसिल है, जिसकी नियुक्ति मुसोलिनीं करता है। इस कौसिल को मुसोलिनी का उत्तराधिकारी नियुक्त करने का अधिकार है । फासिस्त दल का रोमन कैथलिक ईसाई-सम्प्रदाय से अच्छा सबध है । सन् १९३८ तक मुसोलिनी यहूदियो का विरोधी नही था । वह दल में शामिल थे और उच्च पदो पर थे। परन्तु नात्सी प्रभाव मे आकर वह यहूदियो का विरोधी होगया । 4 -

। | ५ ।। ।

64