पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/३००

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

२६४ यहूदी के अन्त में सर श्रोसवाल्ड को, रक्षा कानून के मातहत, पकड़ लिया गया तथा | उसके बहुत-से अनुयायी भी नजरबन्द कर दिये गये। यहूदी-समस्त संसार में लगभग डेढ करोड यहूदी हैं, जिनमे तीस लाख पोलैंड मे, ३० लाख रूस में, ८ लाख रूमानिया मे, ४४ लाख सयुक्त राज्य अमरीका मे, ४,८०,००० फिलस्तीन मे, ३ लाख जर्मनी में, ३ लाख ग्रेट ब्रिटेन में तथा ढाई लाख फ्रान्स में और शेष संसार के अन्य भागों में हैं। यहूदियों में, देश-भेद के कारण, दो शाखाएँ होगई है : पूर्वीय और पश्चिमी । पोलैण्ड, रूस और रूमानिया के पूर्वीय' यहूदियों में अपनी नस्ल की विशेषता है । वह लोग अपने धर्म–मूसाइयतका दृढता से पालन करते, ख़ास तरह के कपडे पहनते. और मध्ययुगीन जर्मन तथा इबरानी भाषा का मिश्रण, ‘यिद्दीश' भाषा, बोलते है । यह भाषा इबरानी लिपि मे लिखी जाती है और इसमे बहुत-सा साहित्य है । यह यहूदी अधिकान्श व्यापारी, कारीगर, सराय चलानेवाले, आदि हैं, और रूस में यह सब किसान-मजदूर है ।। पुरबियो के विपरीत, दूसरे देशो में बसे हुए, पर्छये यहूदी, उन-उन देशों | के वातावरण मे आत्मसात् होगये हैं। जिस देश में रहते हैं उसीकी भाषा बोलते हैं और वहीकी सभ्यता का पालन करते हैं। इनका धार्मिक आचार पुरबियों की अपेक्षा अधिक उदार है । इन यहूदियो मे सभी पेशे के लोग हैं : सौदागर, साहूकार, कारखानेदार, डाक्टर, वकील, क्लर्क, अध्यापक, श्रादि । अलबत्ता अमरीका और पूर्वीय लन्दन के यहूदी मजदूर-पेशा हैं, विशेषतः कपडे के कारीगर । पश्चिमी यहूदियो की जनसंख्या गिरती जारही है । पूर्वीय यहूदियों का इधर आकर बसना रुक गया, जन्मसख्या बहुत कम होगई तथा यह लोग ईसाइयो के साथ विवाह-सम्बन्ध करने लग गये । केवल जर्मनी में