पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/३१२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३०६ रवीन्द्रनाथ - - - रवीन्द्रनाथ ठाकुर-विश्व-कवि, जन्म,कलकत्ता ७ मई मन् १८६१ ई० ; पिता महर्षि देवेन्द्रनाथ ठाकुर और माता श्रीमती शारदादेवी की चौदहवों सन्तान, नौ वर्ष की आयु मे कलकत्ता नार्मल स्कूल में पढने भेजे गये; स्कूल मे शारीरिक व्यायाम और मल्लविद्या में विशेष दिलचस्पी ली; इसी स्कूल मे पढते समय छद-रचना प्रारम्भ की, १२ वर्ष की आयु मे उपनयन- सस्कार हुआ । उपरान्त बोलपुर के शान्ति-निकेतन भेजे गये। यहाँ आपके पिता ने करीब ६ एकड भूमि अाश्रम बनाने के लिये ख़रीदीथी । यही पर आपने विश्व-भारती की स्थापना की, अपनी प्रथम रचना 'पृथ्वीराज-पराजय' लिखी, जिसकी पाडुलिपि खोगई । अपने पिताके साथ उत्तरी भारत का भ्रमण किया, उसी समय सस्कृत और अँगरेज़ी सीखी । सन् १८७४ में कलकत्ता के सेट जेवियर स्कूल मे भरती हुए । तभी शेक्सपियर के 'मैकबैथ' का बॅगला मे भाषान्तर किया । इस समय आप बॅगला मासिक पत्रिकाओं मे लेख लिखते थे तथा कई कविताएँ भी लिखी । जब सत्रह वर्ष के थे तब अपने भाई, सत्येद्रनाथ ठाकुर, आई० सी० एस०, के पास अहमदाबाद गए । सत्येन्द्र ठाकुर सबसे पहले भारतीय इंडियन सिविल सर्वेन्ट थे। अहमदाबाद से रवि बाबू योरप गये और लन्दन के यूनिवर्सिटी कालिज मे भरती होकर अगरेजी साहित्य का अध्ययन किया । १८८० मे बिना कोई पदवी लिए ही आप भारत वापस आगए । २० वर्ष की आयु मे आपने अपना प्रथम गीति-नाटक वाल्मीकि प्रतिभा लिखा और उसके अभिनय मे, वाल्मीकि की भूमिका मे, मच पर आये। तभी आपने अपना प्रथम उपन्यास भारती लिखा । श्रीमती मृणालिनी देवी के साथ आपका विवाह हुआ। कलकत्ता मे कांग्रेस के दूसरे वार्षिक अधिवेशन मे भाग लिया और मगलाचरण गान किया।