पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/३५६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


की हैसियत से, प. जवाहरलाल नेहरू के अभिभापए मे यह मॅाग पेश की गई कि भारत मे विधान-निर्मात्री-परिषद् द्वारा शासन-विधान बनाते का अधिकार स्वीकार किया जाय। तब से कांग्रेस अपने प्रस्तावो मे बराबर इस मॅाग पर जोर देती आ रही है कि वयस्क मताविकार के आघार पर निर्वाचित विधान-परिषद् द्वारा भारतीयों को शासन-विधान बनाने का अधिकार हो। इसका तात्पर्य यह कि राजनीतिक सत्ता ब्रिटिश जनता मे निहित न होकर भारतीय जनता मे निहित होनी चाहिये। ब्रिटिश सरकार ने इस मॅाग को स्वीकार नही किया है। विधानवाट -- शासको की 'उदारता' पर आश्रित रहकर देश की क्रमिक राजनीतिक प्रगति की निष्क्रिय वाञ्छा अथवा भारत मे उसके विधान के अन्तर्गत वैध आन्दोलन तथा विधान को कार्यान्वित करे