पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/३७४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

श्वेत-रूस ३६८ रत्ति उठाकर अनुसार प्रात में शिक्षा का प्रसार किया। ‘मन्दिर' शब्द पर | मुसलमानों ने इस योजना का विरोध किया । १६३६ में युद्धाद्देश प्रश्न पर, समस्त काग्रेस मत्रिमण्डलों के साथ, आपके मत्रि-मण्डल ने भी त्याग-पत्र दे दिया । अगस्त सन् १९४२ से जेल में हैं। अपनी जन्म भूमि रायपुर में प्रसिद्ध वकोल रहे हैं। असहयोग-काल में अपने प्रेक्टिस छोड़ दी और देश सेवा में सलग्न रहे। शुशनिग, डा० कर्ट फान-भूतपूर्व आस्ट्रियन चान्सलर , जन्म सन् १८६७ , । - । आस्ट्रिया के विविध मंत्रि-मण्डलों में सदस्य रहा; जुलाई १९३४ मे, डाल्फस की हत्या के बाद, आस्ट्रिया का चान्सलर बनी । आस्ट्रिया मे राजतन्त्र स्थापित करने का प्रयत्न वह कर रहा था कि हिटलर ने आस्ट्रिया को जर्मनी में मिलाने की मॉग पेश की । शुशनिंग ने प्रतिरोध करने का विचार किया, इसी बीच हिटलर ने उसे बुला भेजा और धमकाकर उससे आस्ट्रिया में नात्सीवाद का मार्ग प्रशस्त करने के सम्बन्ध में लिखा लिया। लौटकर शुशनिग ने हिटलर के विरुद्ध जनमत लेने का प्रयत्न किया । इसी अवसर पर, १२ मार्च १९३८ को, जर्मन-सेनाये आस्ट्रिया से आगई और हिटलर ने आस्ट्रिया को जर्मन राइख़ में मिला लिया, डा० शुशनिग को गिरफ्तार कर लिया गया और आज भी वह राजबन्दी है ।। श्वेत-रूस---सोवियत संघ का एक प्रजातन्त्र ; दक्षिण - पश्चिमी सरहद