पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/३९०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


अमरीका के प्रशान्त महासागरीय इलाक़े पर हमला कर दिया और ११ दिसम्बर १६४१ को जर्मनी और इटली ने अमरीका के विरोध्द युध्द-घोषणा करदी । तब अमरीका का मित्रदल से सम्बन्ध और निकट होगया ।

योरप के अतिरिक्त अमरीका का रजनीतिक और आथिंक स्वार्थ दक्षिणी अमरीका और सुदूरपूव् के देशा, विशेष्कर चीन, में है । अमरीका ने करी-बियन सागर मे सामरिक महत्तव के अड्ड ब्रिटेन से प्राम किये है और पनामा नहर पर भी उसका सरक्षणा है । वह पस्चिमी गोलार्ध्द की सभी अमरीकी रिया-सतो की एकता के लिये प्रयत्न्शील है । दक्षिणा अमरीका में भी सयुक्त-राज्य का बहुत-सा धन व्यापार में लगा हुआ है । दक्षिणा अमरीका रियासते इसे 'उत्तरी अमरीका का साम्राज्यवाद' कहकर उसकी निन्दा करती है । सुदूरपूर्ण में अमरीका और जापान का द्वेष पुराना है । लढाई में शामिल होने से ही अमरीका च्याग काई-शेक की चीन की सहयता कर रहा है और अब तो अमरीका चीन को अपना सहयोगी मानता है । अमरीका रूस की भी सहयता कर रहा है । तुर्की को बी उसने उधार-पट्टा आधार पर सहयता देने को कहा है । अमरीकी और ब्रिटेन का निकट सम्बन्ध होने के कई विशेष कारणा है : दोनों की भाषा एक है, दोनो के आचार-व्यवहार, रीति-रिवाज एक है, राजनीतिक जीवन सम्बन्धी विचारछष्टि एक है । सभ्यता एक है, जाति भी, पूरी नहीं तो आधी, एक है । यही कारणा है कि १६४० से यह विचार-धारा भी चल पडी है कि सयुक्त-राज्य अमरीका और ब्रिटिश राष्ट्रसमूह (सम्राज्य) का एक सघ स्थापित होना चाहिये ।

स्मट्स, फीम्डमार्शल जान त्रिरिचयन- दक्षिणा अफ्रीकी यूनियन के प्रधान-मंत्री ; सन १५७० में , एक साधारणा किसान-परिवार में जन्मे , खेतो पर मजदूरी की ; दक्षिणा अफ्रीकी युध्द में अँगरेज़ों से लडे । सन १६०२ में बोअर-सधि-सभ्य-मण्डल में प्रिटोरिया में शामिल थे । बोअरो और ऑगरेजो में मेल