पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/४१५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


४१० स्वेज नहर न्य सहद भूमध्ये सागरं । - नेनोलह में मदद मिली, जबकि सरकार को न तो मदद जल्द मिली और न उनके यहाँ अनुशासन कायम रहा। स्पेन के अराजकतावादी दल ने सरकारी अनुशासन मानने से इनकार कर दिया और कैटालोनियावालो ने अपने देश से बाहर लड़नेसे । काबालेरो की सरकार को हटना पड़ा और नरमदली नेनिन की सरकार ने अपनी शक्ति फ्राको को रोकने के स्थान पर अपने विरोधियो को दवाने में लगाई । ४ अप्रैल १६३६ को मेड्रिड के पतन के साथ फ्राले विजयी हुअा। स्वेज नहर-मिल में होकर निकाली गई विशाल नहर जो भूमध्यसागर को लाल-सागर ते मिलाती है । इस नहर की मालिक एक फ्रान्तीसी कम्पनी है । इस कम्पनी के ६,५२,००० हित्तों में से २,६५,००० हित्ते अँगरेजी सर- कार के पास है । डाइरेक्टरों के बोर्ड में फ्रान्त तथा ब्रिटेन के प्रतिनिधि हैं । अबीसीनिया के अपहरण के बाद,या- वागमन की अधिकता के आधार पर, इटली ने भी नहर के बोर्ड में प्रतिनिधित्व पाने की मांग की थी। नहर-कम्पनी उन समस्त जहाजों से लगान लेती है, जो इसमे होकर आते-जाते हैं। यह नहर पूर्व देशोयबरतानवी साम्राज्य की जीवन- रक्षक धमनी मानी जाती है और नहर- रक्षा का प्रबन्ध ब्रिटेनके हाथ मे है, जहाँ उसकी ज़बरदस्त फौजे रहती हैं। नहर- कम्पनी का चार्टर १६६७ में खत्म हो जायगा और तब यह मिल की सम्पत्ति होजायगी। सभी राष्ट्रों के जहाज़ो को, लिटिला लडाई के समय मे भी, इस नहर से आने-जाने से रोका नहीं जा सकता। हॉ, बरतानी नौसेना नहर के दहाने और मुहाने पर तैनात है ताकि शत्रु- राष्ट्र का जहाज़ नहर में न घुस सके। - - शस्त्रजानहर) - 'फिलिस्तीन रेलने 5 काहिरा को पाकी स्चेज 0 काल लवे काहि RO....... विज़न