पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/४२३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


सम्मिलित होने से पूर्व ,अपने देश की नीति से निराश होकर २ अप्रैल १६४२ को, आत्मघात कर लिया । १६४२ के सात अप्रैल को वर्तनिया ने हगरी से सम्भन्ध विछ्लेद कर लिया और उसी वर्श ६ दिसम्बर को ब्रितैन ने और १२ गदिसम्बर को अमेरिका ने हगरी के विरुध युध घोशना कर दी । हगरी मे सोशलिस्त , नात्सी, खेतिहर, सन्युक्त इसाइ कैइ दल है । नेशनल -युनियन सर्कारी दल है । शासन -सत्ता मे जमीन्दारो क प्रमुख हाथ है । हद्ताल - श्रमिको अथवा अन्य जनता द्वारा किसी महा पुरुश की म्रुत्यु पर अथवा किसी अन्याय के लिए शोक या प्रतिरोध -प्रदर्शनार्थ या किसी अधिकार , सुविधा अथवा सुयोग कि प्राप्ति के लिए काम -धन्दा अथवा कार्बार बन्द कर देना । ' अन्दर रहो ' हद्ताल भी इस्का एक प्रकार है । सबसे पहले १६३४ मे पोलैद के मजदूरो ने इसका प्रयोग किया । जबतक उन्की मागे स्वीकार नही कर ली गयी , कोयले की खानो से वह बाहर नही निकले । फ्रान्स और आमेरिका मे भी इस प्रकार की हद्तालो का जोर रहा। भारत मे इसके एक-दो उदाहरण ही है । हर्त्जोग , जेम्स बैरी मुनिक -- जनरल , दक्क्षिण अप्फ्रिकी राजनीतिग्य तथा वहा का पूर्व प्रधान्मन्त्री , बोअर -कुल मे १८६६ मे पैदा हुआ , विक्तोरिया कालिज तथ अम्स्तेर्दाम विश्वविद्यलय मे पधा ; १८६५ मे आरेज फ्री स्तीत मे जज होगया , बोअर युध मे बोअर की और से आगरेजो से लदा और बाद मे अङ्रीजो का विकत विरूधी रहा , प्रथम बोथा - मनिमयेदल मे, १६०७ मे, प्रान्तीय शिक्षा -मन्त्री और १६१० ई मे न्याय मन्त्री नियुक्त हुआ । इस काल मे वह बराबर बोथा की ब्रितिश -पोशक निती का विरोधी रहा । १६१२ मे मन्त्रिमन्दल से त्याग-पत्र देकर उसने दक्षिनण आफ्रिका मे प्रजातन्त्र की स्थापना को उदैश्य बनाकर्