पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/४२८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


हाशा जूफेन आन्तम JAL देश है, जिसमे कृषि और उद्योग-धन्धो का विपुल व्यवसाय है। जर्मनी का इसपर पहले से दॉत था। हॉलेण्ड' का औपनिवेशिक साम्राज्य भी सुसम्पन्न था, जो सुमात्रा, जावा (जो पूर्वकालीन भारत के उपनिवेश रहे हैं तथा जहाँ आर्य सभ्यता के चिह्न अब भी अवशेष हैं ), बोर्नियो, डच-गाइना आदि मे फैला हुअा था, और जिस सबका क्षेत्रफल ७,८८,००० वर्गमील है । निरपेक्ष होने पर भी, मई १६४० मे, जर्मन सेनाप्रो ने इस देश पर आक्रमण किया । ५ दिन तक डचो ने जमनो से लोहा लिया, फिर हथियार रख दिये, तब इस देश पर जर्मन अधिकार होगया। अधिकृत हालैण्ड मे जर्मनो ने नात्सी शासन स्थापित कर दिया है, और नीदरलैण्ड्स ईस्ट इण्डीज़ के डच रोटरडम प्रदेशो-सुमात्रा, जावा, आदि का सन् १६४२ मे जापान ने अपहरण फिशिगमारडीक दर्रा कर लिया है । डच सेनाये ईस्ट- इन्डीज़ मे, अमरीकी और बरतानी सेनाओ के साथ, जापानियो से लड़ रही हैं, और रानी और उसकी सर- - जेल जियम । कार लन्दन मे हैं। ___ हाशा, ऐमिल-एलएल० डी० चैकोस्लोवाकिया का अन्तिम राष्ट्रपति १८७२ मे पैदा हुआ; वकील रहने के बाद, सन् १९२५ मे, चेकोस्लोवाकी सुप्रीम ऐडमिनिस्ट्रेशन कोर्ट का अध्यक्ष बना; अक्टूबर. १६३८ मे, म्युनिख- समझौते के बाद बेनेश के त्याग-पत्र दे देने पर, हाशा राष्ट्रपति निर्वाचित हुअा। चेकोस्लोवाकिया के अवशेष भाग को स्वतंत्र बनाये रखने का उसका प्रयत्न विफल हुअा । १४ मार्च १६३८ को जबकि जमन-सेनाएँ चैको व मे प्रवेश कर चुकी थी, हर हिटलर ने उसे बर्लिन मे तलब किया, जहाँ.' धमकियो के बीच उससे एक घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर करालिये गये, अली