पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/४४७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

४४२ हिटलर का विश्वासपात्र और मित्र बन गया । सन् १९२३ में जब हैस की अवस्था २७ वर्ष की थी तब हिटलर की ३४ वर्ष । ड्रक्सलर का मूलोच्छेद करके हिटलर ने जब अपनी 'नेजनेल सोजियालिस्ट पार्ट' ( वर्तमान राष्ट्रीय समाजवादी दल ) की रचना की, तभी हिटलर और हैस की प्रथम भेट हुई । हैस का नात्सी-दल मे तृतीय स्थान रहा है । हिटलर के बाद दूसरा स्थान मार्शल गोरिग का है । जब हिटलर को गिरफ्तार करके १९२४ मे लैन्ड्सवर्ग के किले मे रखा गया, तब हैस भी उसके साथ कैद था । यही हिटलर ने अपना श्रात्म-चरित 'माईन काम्फ' ('मेरा सघर्ष') लिखा । हिटलर बोलता जाता था और हैस लिखता जाता था। रिहाई के बाद हैस को हिटलर ने अपना प्राइवेट सैक्रेटरी बनाया । बाद मे हैस नात्सी दल का लहेरवॉ बन गया । सन् १९३३ मे हिटलर के जर्मनी का सर्वेसर्वा बनने के समय हैस हिटलर की गुप्तचर-टोली (Lidison Stall) का प्रधान था । हिटलर ने उसे अपना मन्त्री और डिपुटी ( सहायक ) नियुक्त किया । वह हिटलर को प्रत्येक प्रकार की गुप्त सूचनाएँ देता था। जब जब हिटलर ने किसी देश पर आक्रमण किया, तब तब पहले हैस ने उस देश में जाकर वहाँ की स्थिति का अध्ययन कर गुप्त सूचनाएँ हिटलर को दी। सितम्बर १६३६ मे, वर्तमान युद्ध छिडने पर, हिटलर ने हैस को नात्सी दल का तृतीय नेता मनोनीत किया। ___१० मई १६४१ की रात को, स्काटलेण्ड पर ग्लासगो की दिशा मे, एक जमन-वायुयान उड़ता हुआ दिखाई दिया । यह वायुयान ग्लासगो के पास गिर पड़ा। कुछ देर बाद उसमे से एक जर्मन अफसर निकला, जिसके पास हवाई छतरी भी थी। उसे ग्लासगो के एक अस्पताल मे लेजाया गया । वहाँ उसने अपना नाम रुडाल्फ हैस बतलाया। वह बवेरिया के आग्सबर्ग से उडकर अाया था । उसके साथ उसके भिन्नभिन्न अवस्थाश्रो के चित्र भी थे । उसने बताया कि वह अपने मित्र, हैमिल्टन के ड्य क, से मिलने जारहा था । ड्य क से लड़ाई से पूर्व का उसका परिचय है । किन्तु वह कुछ दूर आगे ही गिर पड़ा और और गिरफ्तार कर लिया गया । हैस के इस पलायन से ससार मे आश्चर्य उत्पन्न होगया। उसने ड्यू क तथा बरतानी वैदेशिक 7 मा के अफसर, मि० कर्क पैट्रिक, से बाते की, किन्तु रहस्य खुला नही,