पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/४७५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

फजलुलह नाक्स, कर्नल विलियम फ्रेंकलिन-सयुक्त राज्य अमरीका के नौसेनाविभाग का मन्त्री ; १ जनवरी १८७४ को पैदा हुया; मिशीगन विश्वविद्यालय मे पढ़ा ; १८६८ मे क्यूबा-युद्ध में लड़ा ; पत्रकार बना और १६०० तक 'ग्रान्ड रेपिड्स' तथा 'हेरल्ड' में संवाददाता, नगर-स्तम्भ का सम्पादक और पत्र का व्यवस्थापक रहा, १६०१-३१ तक उसने अमरीका मे कई प्रान्तीय पत्र प्रकाशित किये और हट के समाचार-पत्रो का मुख्य व्यवस्थापक रहा । उपरान्त 'शिकागो डेली न्यूज' में हिस्सेदार बना । गत युद्ध मे फ्रास के मैदान पर वह एक अमरीकी तोपखाना-रजमट का कमान्डर रहा । १६३६ में कर्नल नाक्स को रिपबलिकन दल ने उप-राष्ट्रपति पद के लिये मनोनीत किया । अपने दल की एकान्तता-नीति के विरुद्ध कर्नल नाक्स ने, इस युद्ध के प्रारम्भ से ही, अमरीका द्वारा ब्रिटेन को सहायता दिये जाने की नीति का समर्थन किया है । जून १६४० में राष्ट्रपति रूजवैल्ट ने उसे अपने शासन-तन्त्र में शामिल किया । ___फजलुलहक, मि० अबुलकासिम-~२६ मार्च १६४३ को मि० हक बगाल के प्रधान-मन्त्री नहीं रहे । इस सम्बन्ध में प्रकाशित हुई सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार मि० हक ने "बगाल मन्त्रि-मण्डल को अधिक व्यापक और स्थायी आधार पर लाने की सम्भावना की खोज में सहायक होने के अभिप्राय से" त्यागपत्र देदिया, जिसे गवर्नर ने मजूर कर लिया । और मि० हक के उत्तर के अनुसार-जो उन्होने बगाल-असेम्बली मे काग्रेस-दल के नेता द्वारा पूछे गये प्रश्न के सम्बन्ध मे दिया-"उन्हें २८ मार्च की शाम को गवर्नर ने बुला भेजा था । डेढ घण्टे तक बगाल में राष्ट्रीय सरकार बनाने के विषय मे बातचीत हुई । कई प्रस्ताव मि० हक के समक्ष रखे गये, जिनमें से कई को स्वीकार करने से असहमति प्रकट करने पर मि० हक से कहा गया कि वे नियमानुसार अपने पद से त्यागपत्र दे दे। उन्होने अपने सहयोगियों और कृषक-प्रजादल से पूछे बिना, जिसके, वह अगुवा हैं, ऐसा करने मे ५°असमर्थता प्रकट की। गवर्नर इस पर सहमत नही हुए और उन्हे अपने । पर हस्ताक्षर करने को राजी कर लिया गया ।" एक अन्य सदस्य के पर आपने उत्तर में कहा कि, "यह सत्य है कि मेरा त्यागपत्र गवर्नमेट