पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/४९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
आर्य
 


तथा उन्हे जारी करता है। वह सेना

Antarrashtriya Gyankosh.pdf


का प्रधान सचालक है तथा क्षमादान का भी उसे अधिकार है। आजकल प्रोफेसर डगलस हाइड आयरलैण्ड के राष्ट्रपति है।आयरलैंड मे दो धारा सभाये हैं। प्रधान मन्त्री राष्ट्रपति द्वारा पार्लमेट से मनोनीत हो जाने पर नियुक्त किया जाता है। ग्रेट ब्रिटेन ने न तो आयरलैण्ड के नये शासन-विधान को स्वीकार किया है और न अस्वीकार ही।


आर्य--आर्य सस्कृत शब्द है और वेदो मे इसका उल्लेख कई स्थलों पर मिलता है। भारतवर्ष के वैदिक साहित्य के अध्धयन से यह स्पष्ट सिद्ध होता है कि आर्य शब्द आर्यवर्त्त के लोगो के लिये प्रयुक्त किया जाता था। वर्त्तमान समय में हिमालय से विन्ध्याचल तक तथा भारत की पश्चिमी सीमा से ब्रह्म्पुत्र नदी तक का प्रदेश आर्यवर्त्त के नाम से प्राचीन काल में प्रसिद्ध था। कुछ लोगो के मत से सृष्टि के आदि मे तिब्बत में सबसे प्रथम मानव सृष्टि हुई और वहाॅ से मानव भारत के उत्तरी भाग मे आकर बस गये। यही आर्य कहलाये।

कुछ यूरोपीय विद्वानो का यह मत है कि 'आर्य' वास्त्व मे भाषा विज्ञान का शब्द है, उसका जाति, रक्त या वंश से कोई सबंध नही है। इसका स्पष्ट अर्थ यह है कि 'आर्य-जाति' एक कल्पना है--इसमे ऐतिहासिक सत्य नही है।

दूसरी ओर कुछ भारतीय विद्वानो और इतिहास-वेत्ताओ ने यह सिद्ध करने की चेष्टा की है कि आर्य एक प्राचीन जाति है और इसका जन्म-स्थान मध्य एशिया या तिब्ब्त है। लोकमान्य तिलक के अनुसार 'आर्य' जाति का आदिस्थान उत्तरी ध्रुव है।

वर्त्तमान समय मे जर्मनी के सर्वेसर्वा हर हिटलर ने, संसार के सामने जर्मन जाति की विशुद्धता का प्रमाण देने का प्रयत्न करते हुए, यह स्पष्ट