पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/५६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
५०
इनूनू , इस्मत
 


फौजो को हट जाना पड़ा।

२८ अक्टूबर १९४० को इटली ने

Antarrashtriya Gyankosh.pdf


यूनान पर भी हमला कर दिया। आरम्भ में उसकी सेनाएँ अलबानिया में होकर यूनान तक पहुँच गई परंतु बाद में यूनानी सेनाओं ने, अँगरेजी सेना की मदद से, इटली की सेनाओं को खदेड़कर बाहर कर दिया। बाद में जर्मन सेनाओं ने यूगोस्लाविया तथा यूनान पर आक्रमण कर दिया। इसमे जर्मनी का इन दोनो देशो पर अधिकार होगया।


इनूनू, इस्मत-–इनूनू तुर्की-प्रजातंत्र के राष्ट्रपति हैं। सन् १८८४ में इनका जन्म हुआ। सन् १९०३ में सेना के अफसर होगये। सन् १९१४-१८ के विश्वयुद्ध में भाग लिया। सन् १९१९ में कमालवादी बन गये और राष्ट्रीय-सेना के प्रमुख संघटन-कर्ता होगये। यूनानियो को इनूनू ने अनातूलिया में परास्त

Antarrashtriya Gyankosh.pdf


किया। सन् १९२२-२३ में वैदेशिक-मत्री बनाये गये। सन् १९२३ से ३७ तक कमाल अतातुर्क के दाहिने हाथ, तुर्की के प्रधान मंत्री, रहे। जब सन् १९३४ में तुर्कों ने अपने असली नाम के साथ भेदसूचक कुलोपाधि लगाना तर्क किया, तब इस्मत ने पाशा छोड़कर इनूनू को अपनाया। इनूनू नगरकी विजयस्मृति में ही यह उपनाम उन्होंने पसंद किया। सितम्बर १९३७ में उन्होंने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया। जब सन् १९३८ में तुर्की के राष्ट्रपति कमाल अता तुर्क की मृत्यु