पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/६२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
५६
ईरान
 


रिज़ाख़ाँ खुद शाह बन बैठा। शासन की बागडोर अपने हाथ में लेकर उसने देश मे राष्ट्रीयता तथा आधुनिकता को ख़ूब प्रोत्साहन दिया। सन् १९२५ में वह बाक़ाइदा शाह बन गया और रिजाशाह पहलवी कहलाने लगा। उसने देश की आश्चर्यजनक उन्नति की। उद्योगधंधों को बढ़ाया और देश को वास्तव में स्वतंत्र बना दिया। सन् १९२६ में उसने तुर्की से और १९२७ में सोवियट यूनियन तथा अफ़ग़ानिस्तान के साथ मित्रता की संधियाँ की। सन् १९३४ में सादाबाद का समझौता हुआ, जिसके अनुसार तुर्की, फारिस, इराक़ और अफ़ग़ानिस्तान में परस्पर राजनीतिक सहकारिता स्थापित होगई। सन् १९३५ में फारिस की सरकार ने समस्त विदेशी सरकारो से यह निवेदन किया कि वे फारिस को ईरान नाम से संबोधन करे। ईरान में तेल सबसे अधिक पैदा होता है। २० जून १९४१ को नाजी सेना ने सोवियट रूस पर हमला कर दिया। इससे ईरान, इराक़, सीरिया आदि मे ख़तरे की संभावना बढ़ गई। ईरान में इस समय ३००० नाजी गुप्तचर मौजूद थे। इनकी उपस्थिति तथा प्रभाव भारत, मिस्र और ईरान के लिए ख़तरनाक था। इसलिए ब्रिटिश सरकार ने ईरान के शाह से

Antarrashtriya Gyankosh.pdf

यह प्रार्थना की कि वह अपने यहाँ से नाजियो को निर्वासित करदे। इसका उत्तर सन्तोषप्रद न मिलने पर, अगस्त १९४१ मे, रूस तथा ब्रिटिश सरकारो ने ईरान में अपनी फौजे, सुरक्षा के लिए, भेज दी और वहाँ से नाजियो को निकाल दिया।

रूसी तथा बरतानवी सेनाओं के ईरान में पहुँचते ही रिज़ा शाह पहलवी अपने पुत्र को राज्य सौंपकर किसी दूसरी जगह चला गया। इस प्रकार नाज़ियो की कूटनीति का एक पासा यहाँ पलट गया।