पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/६३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
उपनिवेश
५७
 





उत्तरदायी शासन-उत्तरदायी शासन-प्रणाली से प्रयोजन उस शासन-प्रणाली से है जिसमे सरकार या मंत्रि-मंडल जनता के निर्वाचित प्रतिनिधियो में से नियुक्त किया जाता है और यह मत्रि-मडल अपने कायों के लिये प्रतिनिधि सभा (पार्लमेट) के प्रति उत्तरदायी होता है।


उधार और पट्टा कानून--१९४१--वर्तमान महायुद्ध के कारण सयुक्त राज्य अमरीका में यह क़ानून (Lease and Lend Act of 1941) बना है। इसके अनुसार ब्रिटेन, रूस और चीन आदि मित्रराष्ट्रों को वर्तमान युद्ध में अस्त्र-शस्त्रो आदि की सहायता देने की व्यवस्था कीगई है।


उपनिवेश (Colony)--उपनिवेश से प्रयोजन ऐसे देश या प्रदेश से है। जिस पर किसी साम्राज्यवादी राष्ट्र के नागरिक, अपने स्वार्थ-साधन के लिये, प्रभुत्व जमा लेते है। दुनिया के दिखाने के लिए इसे वे हर प्रकार से 'उन्नत' बनाने का ढोंग रचते है। इन उपनिवेशो में जैसे-जैसे सार्वजनिक जागरण होता जाता है, वैसे-वैसे वे उस देश के शासन से मुक्त होने का प्रयत्न करते है, जिसके नागरिको ने उसे ‘विकसित’ और ‘उन्नत' किया था। आस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैण्ड, कनाडा और दक्षिणी अफ्रीका आदि पहले अँगरेज़ी उपनिवेश थे। परन्तु धीरे-धीरे इन देशो ने स्वाधीनता प्राप्त कर ली और आज इनका पद ‘डोमीनियन' माना जाता है। वैस्टमिन्स्टर-क़ानून के अनुसार इन्हे अब ब्रिटेन से सम्बन्ध-विच्छेद का भी अधिकार प्राप्त होगया है। यूरोपीय राष्ट्रो मे उपनिवेशो के लिये बड़ी लिप्सा रही है। यह लिसा, आधुनिक काल मे, भीषण महायुद्धो का कारण हुई है। जर्मनी, इटली, जापान इस समय अधिकाश उपनिवेशो और देशो की लिप्सा से ही मानव-जाति का संहार कर रहे है।