पृष्ठ:Garcin de Tassy - Chrestomathie hindi.djvu/९८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

॥२॥ पीपा ता को दोष गमाई। राम कहे सब ही गति पाई॥ कोटिक लत्या देहि मिटाई। इक हत्या की कला चलाई। ऐसे राम तबलु घल कीन्हा । देश देश जीवन गति दीन्हा । .