पृष्ठ:Kabir Granthavali.pdf/१११

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


कबीर की साखी

लंबा मारग दूरि घर, विकट पंथ बहु मार । कहौ संतौ क्रदृ पाइये, दुलॉम हरि दीदार ॥ २७ ।। संदभॉ-िपृयतम का प्रदेश वहुत दूर है । वहा का मार्ग अत्यन्त लम्बा

और भांति-भांति की बाधाओ से सम्पन्न है । ऐसी स्थिति से प्रियतम के दुर्लभ दीदार कैसे प्रास होगे ?

भावाथ९---मागं लम्बा है, घर दूर पर है, विकट पथ है और अनेक प्रकार के आघात है । हे संतजन ! फिर हरि के दुर्लंभ दीदार कैसे प्राप्त होगे ।

विशेष--, १ ) प्रस्तुत साखी से कवि ने प्रियतम के प्रदेश की दूरी तथा हरि के दर्शनों की दुलंभता का उल्लेख किया है । अथर्ववेद से उसकी सर्वत्र विदधॄयमानता सम्बन्ध मे कहा गया है । ओइम् । यस्तिष्ठति चरति यच्चवच्चईती यो निलायं चरति: य: प्रतडूम । दौ सनिनवघ यन्मन्त्रवेते राजा तद्देद वरुणस्तुर्ताय: । उस प्रियतम का प्रदेश कवि ने दूर माना है । हव्रह्य सर्वत्र विधयमान होते हुए भी निकट है । वह ज्ञान चक्षु के द्वारा दृष्टिगत होता हे । अन्यथा वह दूर हो है । (२) उसको प्राप्त करने का मार्ग (साधना) वडा लम्बा है । (३) 'विकट पंथ' ' 'मार' से तात्पर्य है साधना का मार्ग अनेक बिधून-व्रडघाऔ से सम्पन्न है । माया, तृष्ण, लोभ, काम आधि साधक को उस मार्ग पर ग तिशील नही होने देते हैं । (४) दुर्लभ हरि दीदार" से तात्पर्य है प्रियतम के दर्शन साधना, संयम तथा शाक्ति के विना सम्भव नहीं है ।

शब्दार्थी-मऱरग-- मार्ग, रास्ता । विकट - कठिन । मार - आघात । दीदार - दर्शन ।

गुण गायें गुण नाम कटै, रटै न राम वियोग । अह निसि हरि ध्यावै नहीं, क्या पायौ दुलभ जोग ।। २८≈ ।।

सन्दभ-प्रसतुत साखी मे कबीर ने राम नाम के महत्व का पुन: उल्लेख किया है । राम नाम का प्रभाव वहा व्यापक और असाधारण है । नाम जप के प्रभाव से मध्या के वचनं विचिन्द्रछान्न हो जाते । फिर भी मानव इस पुण्य कर्तव्य से विमुख है ।

भस्वाथ३- राम नाम का गान करने से माया का पाश विरिछंन हो जाते हैं । फिर भी (मानव) राम के वियोग में नाम जप नहीं करना है । जव रात दिन हरि का ध्यान नही करेगा, तव फिर दुर्लभ अनन्त योग कैसे प्राप्त होगा ।

(बजरा-मि-मप्र-] प्रस्तुत पाजी मे कबि ने 'गृदृध' ८४८३ का प्रयोग दो त्रर्यों में पिया है । प्रथम गुण का अर्थ है हरिनाम के गुण या विशेषता ॲौर द्वितीय रुदृदृनं पर 'गुण' दादृर्द का प्रयोग माया के पानं के हुआ है : (इ) गुण'" ' ' ५१३३"