पृष्ठ:Kabir Granthavali.pdf/१३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
( २ )

यहाँ पर इन दोनो घटनाओ को सिकन्दर लोदी के अत्याचारो के अन्तर्गत मानने मे अनुमान किया जा सकता है। 'आहि मेरे ठाकुर तुमरा जोरू' और 'गंगा की लहरि मेरी टुटी जंजीर' जैसी पंक्तियो से ज्ञात होता है कि कबीर ने अपने अनुभवो का वर्णन स्वयं ही किया है ।[१] यदि उपर्युक्त दोनो पदो (रागु गौंड ४ तथा भैरउ, १८) को प्रामाणिक मान लिया जाय तो कबीर को सिकन्दर लोदी का समकालीन माना जा सकता है। इसके अतिरिक्त कोई भी अन्तक्ष्यि नही उपलब्ध होता है।

कबीर को सिकन्दर लोदी का समकालीन सिद्ध करने वाले कुछ बहिर्साक्ष्य प्रमाण भी हैं। रेवरेन्ड के, बील, फर्कहर, मेकालिफ, बेसकट, स्मिथ, भण्डारकर, ईश्वरी प्रसाद[२], तथा रामकुमार वर्मा[३] आदि विद्वान भी इस मत से सहमत हैं कि कबीर और सिकन्दर लोदी समकालीन हैं। इनके अतिरिक्त प्रियादास जी[४] ने भी कबीर और सिकन्दर को समकालीन माना है। अतः कबीरदास का युग पन्द्रहवी शताब्दी मानना असंगत न होगा। इस समय लोदी वंश के शासक सिकन्दर का राज्य था। लोदी वश से पूर्व भारतवर्ष पर गुलाम, बलबन, खिलजी, तुगलक, तथा सैयद वंश राज्य कर चुके थे। कबीरदास से पूर्व प्रायः तीन सौ वर्षों तक मुसलमान इस देश पर राज्य कर चुके थे । राजनीतिक क्षेत्रो मे मुसलमानो का ही प्रभुत्व रहा । इन तीन सौ वर्ष के मुसलमानी शासन काल मे भारतवर्ष की धार्मिक, सास्कृतिक, राजनैतिक, सामाजिक तथा आर्थिक दशा का ह्रास हो गया था । मुसलमानो की विकास शक्ति और धर्म ने देश का दृष्टिकोण ही बदल दिया। मध्य देश मे भी मुसलमानी तलवारो का पानी अनेक हिन्दू राज्यो के सिंहासन डुवो चुका था। हिन्दू राजाओ के पास न बल था, न साहस और न ऐक्य ।

सिकन्दर की शक्ति, अधिकार और महत्वाकाक्षा निःसीम थी। उसके लिए कोई नियम नहीं था। देश का राज्य उसकी इच्छा और मन पर निर्भर था । देश की जनता और विशेष रूप से हिन्दू उसकी कृपा-कोर के आकाक्षी बने रहे । जनता के अधिकारो का कोई अस्तित्व नही था । उसके जीवन की सब से बड़ी सार्थकता थी शासक को आज्ञा पालन करना। सिकन्दर की राजनीति पर भी धार्मिक आदर्शों का प्रभाव था । वहाँ भी हिन्दुओ का कोई विद्रोह होता था वहाँ हिन्दुओ को जो दण्ड

  1. हिन्दी साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास, डॉ. रामकुमार वर्मा, पृ० ३३४ ।
  2. हिन्दी साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास पृ० ३३५ ।
  3. सन्त कवीर पृ० ३८ ।
  4. भक्तमाल की टोका, प्रियादास ।