पृष्ठ:Ramanama.pdf/१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
रामनाम

रामनाम अनुसार किसी भी मत्रका जप किया जा सकता है। मुझे लडकपनसे राम- नाम सिखाया गया। मुझे असका सहारा बराबर मिलता रहता है। जिससे मैने असे सुझाया है। जो मत्र हम जपें, असमे हमे तल्लीन हो जाना चाहिये। मत्र जपते समय दूसरे विचार आवे तो परवाह नहीं । फिर भी यदि श्रद्धा रखकर हम मत्रका जप करते रहेगे, तो अतमे सफलता अवश्य प्राप्त करेंगे। मुझे जिसमे रत्तीभर शक नहीं। यह मत्र हमारी जीवन-डोर होगा और हमे तमाम सकटोसे बचावेगा।* असे पवित्र मत्रका झुपयोग किसीको आर्थिक लाभके लिओ हरगिज न करना चाहिये। अिस मत्रका चमत्कार है हमारी नीतिको सुरक्षित रखनेमे । और यह अनुभव प्रत्येक साधकको थोडे ही समयमे मिल जायगा। हा, जितना याद रखना चाहिये कि तोतेकी तरह अिस मत्रको न पढे। जिसमें अपनी आत्मा पूरी तरह लगा देनी चाहिये। तोते यत्रकी तरह असे मत्र पढते है। हमे अन्हे ज्ञानपूर्वक पढना चाहिये- अवाछनीय विचारोको मनसे निकालनेकी भावना रखकर और मत्रकी जैसा करनेकी शक्तिमे विश्वास रखकर। . हिन्दी नवजीवन, २५-५-१९२४ __* अक ब्रह्मचारीको ब्रह्मचर्य सिद्ध करनेके अपाय सुझाते हुओ गाधीजीने लिखा था ___आखिरी अपाय प्रार्थनाका है। ब्रह्मचर्य साधनेकी अिच्छा रखनेवाला हर रोज नियमसे, सच्चे हृदयसे रामनाम जपे और मीश्वरकी कृपा चाहे।" --यग अिण्डिया, २९-४-२६ ओक प्रयत्नशील साधकको गाधीजीने लिखा था __ "रामकी मदद लेकर हमे विकारोके रावणका वध करना है, और वह सम्भवनीय है। जो राम पर भरोसा रख सको तो तुम श्रद्धा रखकर निश्चितताके साथ रहना। सबसे बड़ी बात यह है कि आत्म-विश्वास कभी मत खोना। खानेका खुब माप रखना, ज्यादा और ज्यादा तरहका भोजन न करना।" -हिन्दी नवजीवन, २०-१२-२८ “जब तुम्हारे विकार तुम पर हावी ना चाहे, तब तुम घुटनोके बल झुककर भगवानसे मददकी प्रार्थना करो। रामनाम अचुक रूपसे मेरी मदद करता है। बाहरी मददके रूपमे कटि-स्नान करो।"-'अनीतिकी राहपर' के दूसरे सस्करणकी भूमिका (१९२८) से।