पृष्ठ:Ramanama.pdf/७८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


 सच्चा डॉक्टर राम ही है

                                                                                                     ७१

(बापूजी जब लाड़ से बुलाते थे, तो मुझे मनुडी कहते थे।) मैं पास गयी तो कहने लगे - “तुमने निर्मल बाबू को आवाज़ लगाकर बुलाया, यह मुझे बिल्कुल नहीं रुचा। तुम अभी बच्ची हो, इसलिए मैं तुम्हें माफ़ तो कर सकता हूँ। परन्तु तुमसे मेरी उम्मीद तो यही है कि तुम और कुछ न करके सिर्फ़ सच्चे दिल से रामनाम लेती रहो। मैं अपने मन में तो रामनाम ले ही रहा था। पर तुम भी निर्मल बाबू को बुलाने के बजाय रामनाम शुरू कर देती, तो मुझे बहुत अच्छा लगता। अब देखो यह बात सुशीला से न कहना, और न उसे चिट्ठी लिखकर बुलाना। क्योंकि मेरा सच्चा डॉक्टर तो राम ही है। जहाँ तक उसे मुझसे काम लेना होगा, वहाँ तक मुझे जिलायेगा, और नहीं तो उठा लेगा।”

      ‘सुशीला को न बुलाना' यह सुनते ही मैं काँप उठी और मैंने तुरंत निर्मल बाबू के हाथ से चिट्ठी छीन ली। चिटठी फ़ट गयी। बापू ने पूछा - “क्यों, तुमने चिट्ठी लिख भी डाली थी न?” मैंने लाचारी से मंजूर किया। तब कहने लगे - “आज तुम्हें और मुझे ईश्वर ने बचा लिया। यह चिट्ठी पढ़कर सुशीला अपना काम छोड़कर मेरे पास दौड़ी आती, वह मुझे बिल्कुल पसन्द न आता। मुझे तुमसे और अपने आपसे चिढ़ होती। आज मेरी कसौटी हुयी। अगर रामनाम का मन्त्र मेरे दिल में पूरा-पूरा रम जाएगा, तो मैं कभी बीमार होकर नहीं मरूँगा। यह नियम सिर्फ़ मेरे लिए ही नहीं, सबके लिए है। हर-एक आदमी को अपनी भूल का नतीजा भोगना ही पड़ता है। मुझे जो दुख भोगना पड़ा, वह मेरी किसी भूल का ही परिणाम होगा। फिर भी आखिरी दम तक रामनाम का ही स्मरण होना चाहिये। वह भी तोते की तरह नहीं, बल्कि सच्चे दिल से लिया जाना चाहिये। रामायण में एक कथा है कि हनुमानजी को जब सीताजी ने मोती की माला दी, तो उन्होंने उसे तोड़ डाला, क्योंकि उन्हें देखना था कि उसमें राम का नाम है या नहीं। यह बात सच है या नहीं, उसकी फ़िकर हम क्यों करें? हमे तो इतना ही सीखना है कि हनुमानजी जैसा पहाड़ी शरीर हम अपना न भी बना सके, फिर भी उनके जैसी आत्मा तो जरूर बना सकते हैं। इस उदाहरण को यदि आदमी चाहे तो सिद्ध कर सकता है। हो सकता है कि वह न भी सिद्ध कर पाये। लेकिन यदि सिद्ध करने की कोशिश ही करे, तो भी काफी है। गीता माता ने कहा ही है कि मनुष्य को कोशिश करनी