पृष्ठ:Sakuntala in Hindi.pdf/११८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
112
[ACT VI.
SAKUNTALA.


क्या होगा¹07 । और कदाचित आप प्रसन्न ही हुए हो¹08 तो यह आशीवाद दो कि राजाओं को बुद्धि प्रजा का सुख बढ़ाने में प्रकृत रहे । और वेदपाठी सरस्वती¹00 के पूजन में चिन्न लगावें । और नीलकण्ठ लोहितजदा स्वयंभू सदाशिव¹¹0 मुझे इस संसार के आवागमन से छुड़ावें¹¹¹ ॥

कश्यय । तथास्त¹¹² ।।

(सब बाहर गये)

॥ समाप्तम्¹¹³ ॥




_________