पृष्ठ:Sakuntala in Hindi.pdf/७७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


___61 Acry.] SAKUNTAI.. शकु । यह विधि ने अपना बल दिखाया है। परंतु अभी एक पता और भी दूंगी॥ दुष्य० । सो भी कहो॥ शकु० । उस दिन की सुध है या नहीं जब आप ने माध्वीकुञ्ज में कमल के पत्ते से जल अपने हाथ में लिया । दुष्य० । तब क्या हुआ ॥ शकु । उसी छिन एक मृगछौना जिस को मैं ने पुत्र की भांति पाला था आ गया । आप ने बड़े प्यार से कहा कि आ बच्चे पहले तू ही पानी पी ले । उस ने तुम्हें विदेसी जान तुम्हारे हाथ से जल न पिया। मेरे हाथ से पी लिया। तब तुम ने हंसकर कहा कि सब कोई अपने ही संघाती को पत्याता है । तुम दोनों एक ही वन में वासी हो और एकप्ते मनोहर हो ॥ दुष्य० । चतुर स्त्रियों के मधुर वचनों ही से तो कामी मनुष्य के मन डिगते हैं। गौतमी । बस राजा । ऐसे कटोर वचन कहने योग्य नहीं है। यह कन्या तपोवन में पली है। यह दुखिया छल क्या जाने ॥ दुष्य० । हे तपस्विनी विना सिखाए भी स्त्रीजाति की चतुराई पुरुषों से अधिक होती है। सो यह बात केवल मनुष्यों ही में नहीं है सब जीव जन्तु में है । और कदाचित स्त्री अच्छी सिखाई जांय तौ न जानिये क्या करें । देखो कोयल अपने अण्डे बच्चे" दूसरे पक्षियों से जिन से उस का कुछ संबन्ध नहीं है पलवाती है ॥ शकु । (क्रोध करके) हे निर्लज्ज तू अपना सा कुटिल हृदय सब का जानता है । तुझ सा पाखण्डी और कपटी राजा न कोई पृथी पै हुआ है न आगे होगा । तें ने धर्म के भेष में कपट ऐसे दुराया है मानो गहरे कूए का मुख घास फूस से ढका है ॥ दुष्यः । (आप ही आप) इस का कोप मेरे मन में संदेह उपजाता है कि