पृष्ठ:Shri Chandravali - Bharatendu Harschandra - 1933.pdf/१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ प्रमाणित हो गया।



श्रीचन्द्रावली

नाटिका




काव्य, सुरस सिंगार के दोउ दल, कविता नेम।
जग-जन सों कै ईस सों कहियत जेहि पर प्रेम॥
हरि उपासना,भक्ति, वैराग, रसिकता ज्ञान।
सौधैं जग-जन मानि या चन्द्रावलिहि प्रमान॥






संवत् १९३३