पृष्ठ:Shri Chandravali - Bharatendu Harschandra - 1933.pdf/३८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
३८
श्रीचन्द्रावली


देखि-देखि दामिनो की दुगुन दमक पीत-
पट-छोर मेरे हिय फहरि-फहरि उठे॥

हाय! जो बरसात संसार को सुखद है वह मुझे इतनी दुखदायिनी हो रही है।

माधवी―तौ न दुखदायिनी होयगी चल उठि घर चलि।

का० मं०―हाँ, चलि।

सब जाती हैं
 

(जवनिका गिरती है)

॥ वर्षा-वियोग-विपत्ति नामक तृतीय अंक ॥



__________