पृष्ठ:Shri Chandravali - Bharatendu Harschandra - 1933.pdf/६०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


                           श्रीचन्द्रावली

खीझ रही है-क्रुध्द हो रही है, झुँझला रही है। हाहा ठीठी-हँसी-मजाक। भोर-सुबह।

                           दूसरा अंक

वाह प्यारे! वाह!...जिसे तुम आप देते हो-चन्द्रावली के इस कथन से 'कृष्णानुग्रह रूपा हि पुष्टिः' का समर्थन होता है। पुष्टिमार्ग मे भगवान कृष्ण और उनकी कृपा ही मुख्य हैं। भगवान की कृपा ही भगवान से मिलाने का एकमात्र साधन है। विलक्षण-अलौकिक। अखंढ-तूर्ण। ज्ञान वैराग्यादिकों को तुच्छ करके परम शांति देनेवाला-शास्त्र-ज्ञान-गृह-त्याग, संसार-त्याग आदी का पुष्टिमार्ग मे उतना महत्व नहीं है, जितना प्रेम का। भगवान जीव का समर्पण भाव देखते है, अनुराग देखते है, उसकी किसी प्रकार की शक्ति पर अनुरक्त नही होते। अभिमान-ज्ञान, धर्म और लौकिक सत्ता का अभिमान। कोई किसी स्त्री...चित्त लगाना-भौतिक प्रेम का रूप। ईश्वर की बढी लम्बी-चौढी पूजा-मर्यादा मार्ग। अमृत-प्रेम रूपी अमृत। जिसे तुम आप देते हो-जिस पर आपका अनुग्रह या कृपा होती है। रार-झगडा। बकि कै-वकवास कर, कहकर, प्रकट कर। परतीतहि छीजिए-प्रतीति--विश्वास, छीजना--क्षीण होना, घरना। मरम की पीर-परम-मर्म, प्राणियों के शरीर का वह स्थान जहाँ आघात पहुँचने से अधिक वेदना होती है,ह्रदय। पीर-पीडा। जरनी-जलन। बे-महरम-इसका पाठ 'वे-बहरम' की और वे-बहरम मिलता है। 'बे बहरम' पाठ लेंने पर अर्थ लगाया जा सकता है-निदंयी। बा० व्रजरत्नदास ने 'बे-महरम' पाठ दिय जो युक्तिसगत प्रतीत होता है। अर्थ है 'भेद न जानने वाला'। लोय-लोग।