पृष्ठ:Shri Chandravali - Bharatendu Harschandra - 1933.pdf/७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
श्रीचन्द्रावली

श्रीचन्द्रावली स्वर कान में पड़ते हैं। ऐसा सम्भव होता है कि देवर्षि भगवान् नारद यहाँ आते हैं । अहा ! वीणा कैसे मीठे सुर से बोलती है (नेपथ्य-पथ को ओर देखकर) अहा ! वही तो हैं, धन्य हैं, कैसी सुन्दर शोभा है ! पिंग जटा को भार सीस पै सुन्दर सोहत । गल तुलसी की माल बनी जोहत मन मोहत ।। कटि मृगपति को चरम, चरन में धुंघरू घारत । नारायण गोविन्द कृ.पण यह नाम उचारत ।। लै बीना कर बादन करत तान सात मुर सो भरत । जग अघ छिन मै हरि कहि हरत जेहि मुनि नर भव-जल तरत ।। जुग नॅबन की बीन परम सोभित मनभाई । लय अरु सुर की मनहुँ जुगल गठरी लटकाई ।। आरोहन अवरोहन के के है फल सोहैं । के कोमल अरु तीब्र सुर भरे जग-मन मोहैं ।। कै श्रीराधा अरु कृष्ण के अगनित गुन गन के प्रगट । यह अगम खजाने द्वै भरे नित खरचत तो हू अघट ।। मनु तीरथ-मय कृष्ण-चरित की काँवरि लीने । के भृगोल खगोल दोउ कर-अमलक कीने ।। जग-बुद्धि तौलन हेत मनहुँ, यह तुला बनाई । भक्ति-मुक्ति की जुगल पिटारी के लटकाई ।। मनु गावन सों श्रीराग के बीना हू फलती भई । कै राग-सिन्धु के तरन हित, यह दोऊ ख़ूबी लई ।। ब्रह्म-जीव, निरगुन-सगुन, द्वैताद्वैत-विचार । नित्य-अनित्य विवाद के द्वै तूंबा निरधार || जो इक तूंबा लै कदै, सो बैरागी होय । क्यों नहिं ये सबसों बड़े, लै तूंबा कर दोय ।। तो अब इनसे मिलके आज मैं परमानन्द लाभ करूँगा । (नारदजी आते हैं) शुक०-(आगे बढ़कर और गले से मिलकर) आइए आइए, कहिए कुशल ___ तो है ? किस देश को पवित्र करते हुए आते हैं ? नारद-आप से महापुरुष के दर्शन हों और फिर भी कुशल न हो, यह बात तो सर्वथा असम्भव है और आप से तो कुशल पूछना ही व्यर्थ है ।