पृष्ठ:Vivekananda - Jnana Yoga, Hindi.djvu/३२९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


अमरत्व ३२२ झगडा करोगे? अतएव यह समझ लो कि तुम्हीं वह हो और इसी के अनुसार समस्त जीवन को बनाओ। जो व्यक्ति इस तत्व को जान- कर समस्त जीवन का उसी के अनुसार गठन करता है वह फिर कभी अन्धकार मे मारा मारा नही फिरेगा।