लेखक:जयशंकर प्रसाद

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
जयशंकर प्रसादस्क्रिप्ट त्रुटि: "Author" ऐसा कोई मॉड्यूल नहीं है।
हिंदी कवि, नाटककार, उपन्यासकार, कहानीकार और चिंतक जो छायावाद के साथ ही आधुनिक हिंदी कविता और नाटक के महानतम रचनाकारों में से एक माने जाते हैं।


Speaker Icon.svg one or more chapters are available in a spoken word format.

Open book Scans

[[File:स्क्रिप्ट त्रुटि: "Wikidata" ऐसा कोई मॉड्यूल नहीं है।|thumb|

जयशंकर प्रसाद

]]

रचनाएं[सम्पादन]

कविता[सम्पादन]

नाटक[सम्पादन]

कहानी[सम्पादन]

उपन्यास[सम्पादन]

अन्य[सम्पादन]

अप्राप्य या विवादित रचनाएं[सम्पादन]

संचयन[सम्पादन]

रचनाएं प्रसाद संबंधित[सम्पादन]

जीवनवृत्तात्मक आलेख[सम्पादन]

साँचा:Infobox writer

जयशंकर प्रसाद (30 जनवरी 1889 - 15 नवम्बर 1937)[१][२], हिन्दी कवि, नाटककार उपन्यासकार तथा निबन्धकार थे। वे हिन्दी के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तम्भों में से एक हैं। उन्होंने हिन्दी काव्य में एक तरह से छायावाद की स्थापना की जिसके द्वारा खड़ी बोली के काव्य में न केवल कमनीय माधुर्य की रससिद्ध धारा प्रवाहित हुई, बल्कि जीवन के सूक्ष्म एवं व्यापक आयामों के चित्रण की शक्ति भी संचित हुई और कामायनी तक पहुँचकर वह काव्य प्रेरक शक्तिकाव्य के रूप में भी प्रतिष्ठित हो गया। बाद के प्रगतिशील एवं नयी कविता दोनों धाराओं के प्रमुख आलोचकों ने उसकी इस शक्तिमत्ता को स्वीकृति दी। इसका एक अतिरिक्त प्रभाव यह भी हुआ कि खड़ीबोली हिन्दी काव्य की निर्विवाद सिद्ध भाषा बन गयी।

आधुनिक हिन्दी साहित्य के इतिहास में इनके कृतित्व का गौरव अक्षुण्ण है। वे एक युगप्रवर्तक लेखक थे जिन्होंने एक ही साथ कविता, नाटक, कहानी और उपन्यास के क्षेत्र में हिंदी को गौरवान्वित होने योग्य कृतियाँ दीं। कवि के रूप में वे निराला, पन्त, महादेवी के साथ छायावाद के प्रमुख स्तम्भ के रूप में प्रतिष्ठित हुए हैं; नाटक लेखन में भारतेन्दु के बाद वे एक अलग धारा बहाने वाले युगप्रवर्तक नाटककार रहे जिनके नाटक आज भी पाठक न केवल चाव से पढ़ते हैं, बल्कि उनकी अर्थगर्भिता तथा रंगमंचीय प्रासंगिकता भी दिनानुदिन बढ़ती ही गयी है। इस दृष्टि से उनकी महत्ता पहचानने एवं स्थापित करने में वीरेन्द्र नारायण, शांता गाँधी, सत्येन्द्र तनेजा एवं अब कई दृष्टियों से सबसे बढ़कर महेश आनन्द का प्रशंसनीय ऐतिहासिक योगदान रहा है। इसके अलावा कहानी और उपन्यास के क्षेत्र में भी उन्होंने कई यादगार कृतियाँ दीं। विविध रचनाओं के माध्यम से मानवीय करुणा और भारतीय मनीषा के अनेकानेक गौरवपूर्ण पक्षों का उद्घाटन। ४८ वर्षो के छोटे से जीवन में कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास और आलोचनात्मक निबंध आदि विभिन्न विधाओं में रचनाएँ की।

साहित्यिक आलोचना[सम्पादन]

  1. अंतरंग संस्मरणों में जयशंकर 'प्रसाद', सं०-पुरुषोत्तमदास मोदी, विश्वविद्यालय प्रकाशन, वाराणसी; संस्करण-2001ई०,पृ०-2 (तिथि एवं संवत् के लिए)।
  2. (क)हिंदी साहित्य का बृहत् इतिहास, भाग-10, नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी; संस्करण-1971ई०, पृ०-145(तारीख एवं ईस्वी के लिए)। (ख) www.drikpanchang.com (30.1.1890 का पंचांग; तिथ्यादि से अंग्रेजी तारीख आदि के मिलान के लिए)।