हीराबाई

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search

Download this featured text as an EPUB file. Download this featured text as a RTF file. Download this featured text as a PDF. Download this featured text as a MOBI file. Grab a download!

हीराबाई.djvu
हीराबाई  (1914) 
द्वारा किशोरीलाल गोस्वामी
[  ]
हीराबाई.djvu
[  ]

श्रीः

हीराबाई

वा

बेहयाई का बोरका

हीराबाई.djvu

ऐतिहासिक उपन्यास

हीराबाई.djvu


चपला, लखनऊ की कब्र, माधवीमाधव, तारा, सोना और सुगन्ध,
लीलावती, रज़ीयाबेगम, मल्लिकादेवी, लालकुंवर, राजकुमारी,
स्वर्गीयकुसुम, तरुणतपस्विनी, हृदयहारिणी, लवङ्गलता,
याकूती तख्ती, कटेमूड़ को दो दो बातें, कनककुसुम,
सुखशर्वरी, प्रेममयी, गुलबहार, इन्दुमती, लावण्यमयी,
प्रणयिनीपरिणय, त्रिवेणी, पुनर्जन्म, जिन्दे की लाश,
चन्द्रावली, चन्द्रिका, हीराबाई इत्यादि उपन्यासों

के रचयिता

श्रीकिशोरीलालगोस्वामि-लिखित

और

श्रीछबीलेलालगोस्वामि-द्वारा

स्वकीय--"श्रीसुदर्शन-यन्त्रालय" वृन्दावन में

मुद्रित और प्रकाशित

हीराबाई.djvu

(सर्वाधिकार रक्षित)

सन् १९१४ ईस्वी

हीराबाई.djvu
दूसरी बार २००० [  ]

श्रीः

हीराबाई

वा

बेहयाई का बोरका

हीराबाई.djvu

ऐतिहासिक उपन्यास

हीराबाई.djvu

पहिला परिच्छेद।

अत्याचार।

"सर्पः क्रूरः खलः क्रूरः सर्पात्क्रूरतरः खलः।
मन्त्रौषधिवशः सर्पः खलः केन निवार्यते ॥"

(हितोपदेशे)

दिल्ली का ज़ालिम बादशाह अलाउद्दीन ख़िलजी जो अपने बूढे़ और नेक चचा जलालुद्दीन फ़ीरोज़ ख़िलजी को धोखा दे और उसे अपनी आंखों के सामने मरवाकर [सन् १२९५ ईस्वी] आप दिल्ली का बादशाह बन बैठा था, बहुत ही संगदिल, खुदग़रज़, ऐय्याश, नफ़्सपरस्त और ज़ालिम था। उसने तख़्त पर बैठते ही जलालुद्दीन के दो नौजवान लड़कों को क़तल करडाला और गुजरात
(१) न० [  ]
पर चढ़ाई करके उसे फ़तह कर दिल्ली में मिला-लिया था। इसके बाद [सन् १२९७ ईस्वी] जब फ़ौज से लूट का माल उसने मांगा तो फ़ौज ने बलवा किया, जिससे जलकर उस मलकुलमौत अ़लाउद्दीन ने सभों को, मय उनके लड़के-बाले और औरतों के, कटवाडाला था।

फिर अ़लाउद्दीन ने [सन् १३०० ईस्वी] साल भर के मुहासरे में रनथंभौर का क़िला जीता, उस के बाग़ी मीरमुहम्मदशाह को शरण देनेवाला वीरकेशरी हम्मीर वीरगति को पहुंचा और सारा रनिवांस इज्ज़त-आबरू बचाने के लिये आग में जलमरा था।

इसके बाद [सन् १३०३ ईस्वी] अ़लाउद्दीन ने पद्मिनी रानी के पाने के लिये तीन बरस तक खूब गहरी लड़ाई लड़कर चित्तौर का प्रसिद्ध किला जीता था। राना रतनसेन मारा गया, पद्मिनी रानी धर्म बचाने की इच्छा से अपनी सहेलियों के साथ महल के अन्दर चिता में जल गई और दुराचारी अ़लाउद्दीन यह देख अपना सा मुंह ले, कलेजा मसोसकर रह गया था।


PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष २०२० के अनुसार, १ जनवरी 1960 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg