पृष्ठ:अनासक्तियोग.djvu/२४२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


है, वहां श्री है, विजय है, वैभव है और अविचल नीति है, ऐसा मेरा अभिप्राय है। ७८ टिपरी-योगेश्वर कृष्णसे तात्पर्य है अनुभव- सिद्ध शुद्ध ज्ञान और धनुर्धारी अर्जुनसे अभिप्राय है तदनुसारिणी किया, इन दोनोंका संगम जहां हो, संजयने जो कहा है उसके सिवा दूसरा क्या परि- म हो सकता है ? ॐ तत्सत् इति श्रीमद्भगवद्गीतारूपी उपनिषद अर्थात् ब्रह्म- विद्यांतर्गत योगशास्त्रके श्रीकृष्णार्जुनसंवादका 'संन्यास- योग' नामक अठारहवां अध्याय । ॐ शांतिः