पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ प्रमाणित हो गया।


महाकवि केशवदास

कृत

कवि-प्रिया


सगुन पदारथ अर्थयुत, सुबरनमय सुभसाज।
कंठमाल ज्यो कविप्रिया, कंठ करो कविराज॥



टीकाकार

श्री लक्ष्मीनिधि चतुर्वेदी, एम॰ ए॰

साहित्यरत्न, शास्त्री, हिन्दी प्रभाकर, कविरत्न
आचार्य
मधुसूदन-विद्यालय-इण्टर कालेज,

सुलतानपुर



प्रकाशक

मातृ-भाषा-मन्दिर, मालवीय नगर, प्रयाग

द्वितीयबार]सन् १९६६[मूल्य ५)