पृष्ठ:कुछ विचार - भाग १.djvu/८९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
: :कुछ विचार : :
: ८२ :
 
कुछ विचार :

८२ अनुसंधान की, और साहित्यिक के लिए विह्वलता की ! विह्वलता एक प्रकार का आत्म समर्पण है । यहाँ हम पृथकता का अनुभव नहीं करते। यहाँ ऊँच-नीच, भले-बुरे का भेद नहीं रह जाता। श्रीरामचंद्र शवरी के जूठे बेर क्यों प्रेम से खाते हैं, कृष्ण भगवान विदुर के शाक को क्यों नाना व्यञ्जनों से रुचिकर समझते हैं; इसी लिए कि उन्होंने इस पार्थक्य को मिटा दिया है। उनकी आत्मा विशाल है। उसमें समस्त जगत् के लिए स्थान है । आत्मा आत्मा से मिल गई है। जिसकी आत्मा, जितनी ही विशाल है, वह उतना ही महापुरुप है। यहाँ तक कि ऐसे महान् पुरुप भी हो गये हैं, जो जड़ जगत् से भी अपनी आत्मा का मेल कर सके हैं। ____ आइये देखें, जीवन क्या है ? जीवन केवल जीना, खाना, सोना और मर जाना नहीं है। यह तो पशुओं का जीवन है। मानव जीवन में भी यह सब प्रवृत्तियाँ होती हैं ; क्योंकि वह भी तो पशु है। पर, इनके उपरान्त कुछ और भी होता है। उनमें कुछ ऐसी मनोवृतियाँ होती हैं, जो प्रकृति के साथ हमारे मेल में वाधक होती हैं, कुछ ऐसी होती हैं, जो इस मेल में सहायक बन जाती है। जिन प्रवृत्तियों में प्रकृति के साथ हमारा सामंजस्य बढ़ता है, वह वांछनीय होती हैं, जिनसे सामंजस्य में वाधा उत्पन्न होती है व दृपित हैं। अहवार, क्रोध या द्वप हमारे मन की वाधक प्रवृत्तियाँ हैं। यदि हम इनको बेरोक-टोक चलने दें, तो निस्सन्देह वह हमें नाश और पतन की ओर ले जायँगी इसलिए हमें उनकी लगाम रोकनी पड़ती है, उन पर संयम रखना पड़ता है, जिसमें वे अपनी सीमा से वाहर न जा सकें। हम उन पर जितना कठोर संयम रख सकते हैं, उतना ही मंगलमय हमारा जीवन हो जाता है। किन्तु नटखट लड़कों से डाँटकर कहना-तुम बड़े बदमाश हो. हम तुम्हारे कान पकड़कर उखाड़ लेंगे-अक्सर व्यर्थ ही होता है; बल्कि उस प्रवृत्ति को और हठ की ओर ले जाकर पुष्ट कर देता है। ज़रूरत यह होती है, कि बालक में जो सवृत्तियाँ हैं, उन्हें ऐसा