पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/६९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
दृश्य ३ ]
चाँदी की डिबिया
 

बार्थिविक

क्या चीज़ है। सिगरेट की डिबिया? और तो कोई चीज़ नहीं ग़ायब हुई?

मारलो

जी नहीं, मैंने प्लेट देख लिया।

बार्थिविक

आज सवेरे घर में तो कुछ गड़बड़ न थी, कोई खिड़की खुली तो न थी।

मारलो

जी नहीं----

[ जैक से आहिस्ता ]

रात आप अपनी कुंजी दरवाज़े में छोड़ गए थे।

[ बार्थिविक की नज़र बचाकर कुंजी दे देता है ]

जैक

ठीक है।

६१