पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/३००

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३०८ देव और विहारी तेरे ही अधीन अधिकार तीन लोक को, सु दीन भयो क्यों फिरै मलीन घाट-बाट हैं; तो मैं जो उठत बोलि, ताहि क्यों न मिलै डोलि , खोलिए, हिए मै दिए कपट-कपाट हैं। हृदय के कपट-कपाट खुल जाने के बाद अपने आपमें जो बोल उठता है, उससे सम्मिलन हो जाता है । इस सम्मिलन के बाद फिर और क्या चाहिए ? 'सोऽहं' और 'श्रहं ब्रह्म भी तो यही है । फिर तो हमी ब्रज हैं, ब्रज-स्थित वृंदावन भी हमीं हैं, श्याम-वर्ण भानु-तनया की विलोल तरंग-मालाएँ भी हमी में हैं। चारों ओर विस्तृत सघन वन एवं अलि-माला से गुंजायमान विविध कुंजों का प्रादुभीव भी हमीं में होता है। वीणा की मधुर झंकार से परिपूर्ण, रास-विलास-वैभव से युक्त वंशी-वट के निकट नट-नागर का नृत्य भी हमी में होता है। इस नृत्य के अवसर पर संगीत-ध्वनि के साथ-साथ गोपियों की चूड़ियों की मृदु झंकार भी हमी में विद्यमान पाई जाती है। वाह ! कितना रमणीय परिवर्तन है ! हो ही ब्रज, बृदावन मोही में बसत सदा , जमुना-तरग स्याम-रंग अवलीन की; चहूँ और सुंदर, सघन बन देखियत , कुंजनि मैं सुनियत गुंजनि अलीन की । बंसी-बट-तट नट-नागर नटतु मोमैं , रास के विलास की मधुर धुनि बीन की; भरि रही भनक, बनक ताल-तानन की , तनक-तनक तामैं भनक चुरीन की। वेदांत के इतने उच्च और सच्चे तत्व से परिचित होते हुए भी देवजी ने संसार की क्षण-भंगुरता पर विकलता-सूचक आँसू गिराए