पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/६८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


देव-विहारी श्रीव्रजराज- नेह निबाहैं धनि रसराज ! कृष्णविहारी युग कर जोर, वंदत संतत युगलकिशोर। कृष्णविहारी मिश्र