पृष्ठ:प्रताप पीयूष.djvu/२२३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


(२१२)
तुमहूं पुरुष पुरुष बोढू सुनि वाही नाते तृप्यन्ताम ।।
(१६)
पांच पीर की पांच चुटैया हमरे सिर पर लसैं ललाम ।
तिन कहं गहे रहैं निशि वासर लोभ मोह मद मतसर काम ।।
अद्भत पंच शिखा हैं हमहूं करन हेत पुरिखन बदनाम ।
अपनों स्वांग समुझि कै हम कहं पंचशिखा मुनि तृप्यन्ताम ।।
(१७)
जन्म दान लालन पालन लहि हम रोवत बिन दाम गुलाम ।
पै हमरो विवाह हो तुम हित अनरथ मूल कलह को धाम ॥
बसि अब बात बात पर खीझौ लरौ मरौ शिर धुनौ मुदाम ।
बचन वन संघारि वहूं संग जननि देवि भव तृप्यन्ताम ।।
(१८)
विद्या बिना अभ्यसित तुम कह निज कुल रीति नीति गृह काम ।
हम पढ़ि मरें तहूं बसि जानें उदर भरन बनि विश्व गुलाम ॥
मरेहु पूजिबे जोग अहौ तुम हम जिय तहु निन्दित सब ठाम ।
फिर किन गुनन कहैं केहि मुख सों दादी देवी तृप्यन्ताम ।।
(१९)
जानै बिन छल छंद जगत के तुम सुख जीवन लह्यौ मुदाम ।
हम हैं कोटि कपट पटु तौ हूँ दुर्गति में दिन भरै तमाम ।।
मरेहु खाहु तुम खीर खांड हम जियहिं क्षुधा कृश निपट निकाम ।
कौन भांति कहि सकै अहे प्यारी परदादी तृप्यन्ताम ॥