पृष्ठ:बुद्धदेव.djvu/२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


बुद्धदेव

शकवायुवरुणादयः सुराः
विक्रिया मुनिवरांश्च पत्कृते।
यांति तत्स्मर सुखं तृणायितं

यस्य कस्य न स विस्मयास्पदम् ॥


लेखक

जगन्मोहन वर्मा


१९२३.


दुर्गाप्रसाद खत्री द्वारा

भारतजीवन प्रेस, काशी में मुद्रित ।

दूसरा संस्करण]
[मूल्य १)