पृष्ठ:मानसरोवर १.pdf/१३२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।

१३९
घरजमाई

हरिधन ने पड़े-पड़े कहा --- क्या है क्या ? क्या पड़ा भी न रहने देगी या और पानी चाहिए?

गुमानी कटु स्वर में बोली --- गुर्राते क्या हो, खाने को तो बुलाने आई हूँ।

हरिधन ने देखा, उसके दोनों साले और बड़े साले के दोनों लड़के भोजन किये चले आ रहे थे। उसकी देह में आग लग गई। मेरी अब यह नौषत पहुँच गई कि इन लेगों के साथ बैठकर खा भी नहीं सकता। ये लोग मालिक हैं। मैं इनकी जूठी थाली चाटनेवाला हूँ। मैं इनका कुत्ता हूँ जिसे खाने के बाद एक टुकड़ा रोटी डाल दी जाती है। यही घर है जहाँ आज के दस साल पहले उसका कितना आदर-सत्कार होता था। साले गुलाम बने रहते थे। सास मुँह जोइतो रइतो घो। स्त्री पूजा करती थी। तब उसके पास रुपये थे, जायदाद थी। अब वह दरिद्र है, उसकी सारी जायदाद को इन्हीं लोगों ने कूड़ा कर दिया। अब उसे रोटियों के भी लाले हैं। उसके जी में एक ज्वाला-सी उठो कि इसी वक्त अन्दर जाकर सास को और सालों को भिगो-भिगोकर लगाये; पर जन्त करके रह गया। पड़े-पड़े बोला- मुझे भूख नहीं है । आज न खाऊँगा।

गुमानी ने कहा --- खाओगे मेरी बला से, हां नहीं तो ! साओंगे, तुम्हारे हा पेट में जायगा, कुछ मेरे पेट में थोड़े ही चला जायगा।

हरिधन का क्रोध आँसू बन गया। यह मेरी स्त्री है, जिसके लिए मैंने अपना सर्वस्व मिट्टी में मिला दिया। मुझे उल्लू बनाकर यह सब अब निकाल देना चाहते हैं। वह अम कहाँ जाय ! क्या करे !

उसकी सास आकर बोली --- चलकर खा क्यों नहीं लेते जो, रूठते किस पर हो ? यहाँ तुम्हारे नखरे सहने का दिसी में बूता नहीं है। जो देते हो वइ मत देना और क्या करोगे। तुमसे बेटी ब्याही है, कुछ तुम्हारी ज़िन्दगी का टीका नहीं लिया है।

हरिधन ने मर्माहत होकर कहा --- हाँ अम्मा, मेरी भूल थी कि मैं यही समझा रहा था। अब मेरे पास क्या है कि तुम मेरी ज़िन्दगी का ठीचा लोगो। जय मेरे पास भी धन था तब सब कुछ आता था। अब दरिद्र हूँ, तुम क्यों पात पूछोगी।

बूढ़ी सास भी मुंह फुलाकर भीतर चली गई।

( २ )

बच्चों के लिए बाप एक फ़ालतू-सी चीज़ --- एक विलास की वस्तु-है, जैसे घोड़े के लिए चने या बावुओं के लिए मोहनभोग। माँ रोटी दाल है। मोहनभोग उम्र भर