पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/१३८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


नौकागठन । १२९ माने में संसार के सम्पर्क से विमुक्त होकर संदेह परलोक वास कर रहा हूं । यहाँ मैं ही एक निधकएटक बादशाह था। अब मुझे किसी वस्तु की कमी के कारण कोई कष्ट न था । कोई व्यर्थ की वासना अब मन को पीड़ित नहीं करती थी । इसके सिवा इस एकाधिपम्पत्-िसभोग में लेशमात्र अहकार न था । यहाँ मैं ढेर का और अन्न उपजा सकता था; पके अंगूरों से घर भर सकता था । अपनी इच्छा के अनुसार जितने चाहिएँ उतने कछुए, बकरेभाँति भाँति के पक्षी और लड़कियाँ ले आ सकता था । किन्तु इतना लेकर मैं करता क्या १ एक व्यक्ति के लिए जितना यथेष्ट हो सकता है उतना ही मैं लेता था। अधिक लेकर क्या करता १ इस समय अपनी अवस्था की बात सोच कर मु यकिश्चित् यही ज्ञान हुआ कि वस्तुओं का मूल्य आवश्यकता के ही अनुसार होता है । उत्तम से उत्तम पदार्थ तभी तक मूल्यवान गिना जाता है। जब तक लोग उसे आवश्यक समझते हैं । आवश्यकता न रहने पर उसका कुछ मेल नहीं । संसार का सबँधान लोभी अथवा कृपण मेरी अवस्था में पड़ कर एक अच्छा दानी बन जाता, इसमें सन्देह नहीं । मेरे पास कुछ रुपया था, यह पहले ही पाठकों को मालूम हो चुका है। मैं इस समय मटर, सेम मूली, शलगम प्रवृति तरकारियों के एक एक बोज के लिए या एक बेतल स्याही के लिए मुट्ठी भर रुपया देने को प्रस्तुत हूं। जिस रुपये के लिए संसार के कितने ही लोग दिन रात = लालायित रहते हैं वह रुपया मेरे नजदीक इस समय कोई चीज़ नहीं । इन बातों को लेच विचार कर मेरा मन ईश्वर के प्रति दृढ़ भक्ति से आर्द हो उठा। मैंने विशुद्ध भाव से ईश्वर की उपासना की और उन्हें अनेकानेक धन्यवाद दिये । मैं इस