पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/१९३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
१७२
राबिन्सन क्रूसो ।

१७२ राबिन्सन क्रस । - उन नरकडालो को अच्छी तरह जला कर में अपने घर लौट आया । फ्राइडे को एक जोड़ी जूती पाजाम दिया और चमड़े का कुरता और टोपी ली कर दी । फ्राइडे अपने प्रभु की ऐसी पोशाक पहनने के पा कर बहुत प्रसन्न हुआ । किन्तु पहले पहल कपड़ा पहनने में उसे बड़ा ही कष्ट होता था। उसे ऐसा जान पड़ता था जैसे पोशाक पहनने का उसे 1 अभ्यास हो गया । अब मुझे इस बात की फिक्र हुई कि इसको रहने के लिए कहाँ जगह देनी चाहिए। इसको ऐसी जगह रखना चाहिए जहाँ यह आराम से रह सके और मैं भी निर्भय हो कर रहूँ। कारण यह कि राक्षसी प्रकृति के मनुष्य का विश्वास ही क्या ? क्या मालूम किस दिन उसकी त्रिल-ति कैसी हो । उसका राक्षसी स्वभाव जिस घड़ी प्रबल हो उठेगा उस घड़ी सर्वनाश होना ही सम्भव है । मैंने सोचविचार कर निश्चय किया कि बाहर और भोतर के घरों के बीच की जगह में उसके लिए एक तम्बू खड़ा कर देना चाहिए। मैंने एक छोटा सा तम्बू खड़ा कर दिया । यहाँ से गुफा के पास वाले दर्जे से मेरे तस्ब में जाने का एक भी रास्ता था । उसमें मैंने एक फाटक लगा दिया । उसका द्वार अपने तम्बू की ओर रहने दिया और उसमें जद्र भी लगा दो । जजोर लगा देने और बाहर से सीढ़ी खींच कर भीतर रख देने पर लेने की अवस्था में भय की कोई सम्भावना न थी । फ्राइडे अब सहज ही मेरे घर के भीतर आ कर मुझ पर आक्रमण न कर सकेगा । यदि किसी दिन घेरे के 6 लाँध कर मुझ पर आक्रमण करने का संकल्प करेगा भी