पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/२३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
२०६
क्रूसो की उध्दार पूर्व सूचना।

कि उन दस नाविकों में तीन चार बिलकुल निर्बल हैं तब तो कोई बात ही नहीं।

नाव किनारे लगते ही वे लोग नाव को ऊपर खींच लाये । यह देख कर मैं खुश हुआ । वे लोग उतरते ही दौड़ कर पहली नाव के पास गये। नाव की समस्त वस्तुओं को अपसारित और उसके पेंदे में एक बड़ा सा छेद देख कर वे अवाक् हो रहे । कुछ देर खड़े हो कर उन लोगों ने बहुत कुछ तर्क-वितर्क किया। इसके बाद उन लोगों ने दो-तीन बार खूब उच्चस्वर से अपने साथियों को पुकारा किन्तु उससे कुछ फल न हुआ । तब उन लोगों ने एक साथ बन्दूकों की आवाज़ की जिनके शब्द से सारा वन प्रतिध्वनित हो उठा। पर इससे भी किसी का कुछ पता न लगा । तब उन लोगों के आश्चर्य की सीमा न रही । सभी ने निश्चय किया कि साथी मारे गये । तब उन लोगों ने जहाज़ पर लौट जाने का उपक्रम किया। नाव को पानी में ले जाकर सभी सवार हुए। यह देख कर हम लोग हताश हो गये । मैंने सोचा कि इस दफझे ये लोग जहाज़ पर जाते ही जहाज़ खोल कर चल देंगे । किन्तु वे लोग थोड़ी दूर जाकर न मालूम फिर क्या सोच कर लौट आये । इस दफ़े सात आदमी नाव से उतर कर ऊपर आये और तीन आदमी नाव की हिफ़ाज़त के लिए नाव में रहे। यह देख कर भी हम लोग निराश हुए। क्योंकि नाव को अधिकार में न कर सकने पर सभी प्रयत्न व्यर्थ होगा । वे लोग जहाज़ पर जाकर खबर देंगे और खबर पाते ही जहाज़ चल देगा । तो भी हम लोग सुयेाग की अपेक्षा करते रहे । सात आदमियों के किनारे पर उतार कर नाव के माँझियो ने पानी में नाव ले जाकर लंगर डाल दिया । हम लोग एकाएक नाव पर आक्र