पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/२५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
१८
राबिन्सन क्रूसो

उस जहाज़ के अध्यक्ष ने हमारे जहाज़ से भिड़कर साठ लुटेरों को हमारे जहाज़ पर चढ़ जाने की आज्ञा दी । हमारे जहाज़ पर आते ही वे लोग झटपट पाल की रस्सी काटने लगे । हम लोगोंं ने बन्दूक़ और बर्छा चला कर तथा ख़ाली बारूद की पुड़िया छोड़ कर दो-एक बार उन को भगा कर अपने डेक को बचाया, किन्तु अन्त में हम लोगों के तीन आदमी मारे गये, आठ घायल हुए और जहाज़ की गति भी मन्द हो गई । उसके कई कल-पुर्ज़े टूट जाने से वह लँगड़ा सा हो गया । तब हम लोग पकड़ लिये गये । हम लोगों को पकड़ कर वे शैली बन्दर में ले गये ।

मैंने जैसी आशङ्का थी वैसा कोई क्रूर व्यवहार वहाँ जाने पर देखने में न आया । डाकुओं के सर्दार ने हमारे साथी अन्यान्य बन्दियों को राज-दरबार में दास बनाकर भेज दिया और मुझको अपने पास रख लिया । मैं युवा और उत्साही था, इसलिए उसने मुझको अपने काम के उपयुक्त समझ कर ही शायद अपने यहाँ रख लिया ।

मेरे इस अवस्था-परिवर्तन में--वणिक् से एकदम दास होकर रहने में--मेरा हृदय अत्यन्त व्यथित होने लगा । उस समय मुझे फिर पिता का उपदेश और दुर्भाग्य की बात स्मरण होने लगी । किन्तु मैं तब भी न समझ सका कि मेरे संकट का अभी अन्त नहीं हुआ है, अनेक संकट अब भी भोगने को पड़े हैं ।

मेरे नये मालिक मुझको अपने घर ले गये । तब मेरे मन में कुछ कुछ यह नई आशा होने लगी कि वे जब जब समुद्र की यात्रा करेंगे तब तब मुझको ज़रूर साथ ले जायँगे । और, मेरे भाग्य से वे कभी न कभो स्पेनिश या