पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ प्रमाणित हो गया।



राबिन्सन क्रूसो


 

क्रूसो का गृहत्याग और तूफ़ान

१६३२ इसवी में इंग्लैंड अन्तर्गत यार्क नगर में मेरा जन्म हुआ। मैं अपने माँ-बाप का तृतीय पुत्र था। मेरे बड़े भाई सैन्यविभाग में काम करते थे। युद्ध में उनकी मृत्यु हुई थी। छोटे भाई का हाल में कुछ भी नहीं जानता। बालकों में छोटा या बड़ा जो समझिए मैं ही था, इसलिए मैं घर भर के लोगों का अत्यन्त स्नेहभाजन था। मेरे पिता सुनार का काम करते थे, तथापि उन्हें ने मेरे पढ़ाने लिखाने में कभी कोई त्रुटि नहीं की। जब मैं अपने घर और पाठशाला में कुछ विद्या पढ़ चुका तब पिता ने मुझको कानून पढ़ाने की इच्छा प्रकट की। किन्तु मेरे दिमाग में तो बाल्यकाल से ही देशभ्रमण का शौक घुसा था, इसके लिए समुद्रयात्रा की और मेरा ध्यान लग रहा था। समुद्रयात्रा के अतिरिक्त मुझे और कुछ न कुहाता था, और न किसी दूसरे काम मेंमेरा लगता था। समुद्रयात्रा का उद्ग ऐसा प्रबल हो उठा, समुद्रयात्रा की तरह मेरे मन में इस प्रकार लहराने लगी कि पिता की इच्छा और आदेश, माता की सान्त्वना और अनुनय, तथा आत्मीय बन्धुगों की फटकार के विरुद्ध मेरा दृढ़ संकल्प हो गया मानो मेरी चित्तवृत्ति स्वतन्त्र हो