पृष्ठ:सरदार पूर्णसिंह अध्यापक के निबन्ध.djvu/२६

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।

निबन्धकार एवं कवि पूर्णसिंह संस्करण में पूरी न हो सकी। मुझे प्रसन्नता है कि अब जाकर प्रयत्न सफल हुअा और इस दूसरे संस्करण में जीवनी को बहुत कुछ पूरा किया जा सका है । भविष्य में यदि और भी कुछ नयी बातें जीवनी के सम्बन्ध में मालूम हुई तो उनका समावेश अगले संस्करण में कर दिया जायगा । इनकी जीवनी से सम्बन्धित सामग्री पंजाब से प्राप्त करने में मुझे डा० हरदेव बाहरी एवं श्री रामेश्वराचार्य शास्त्री से बड़ा सहयोग प्राप्त हुआ है, एतदर्थ मैं उनका आभारी हूँ। कवि कुटीर गुरुपूर्णिमा २०१५ वि० -प्रभात शास्त्री दारागंज, प्रयाग । n छब्बीस