पृष्ठ:साहित्य का उद्देश्य.djvu/७४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
६८
सहित्य का उद्देश्य


नहीं है,जितना एक लम्बे चौड़े मार्गहीन मैदान मे चलनेवालो के लिए।

"उपन्यासकार का प्रधान गुण उसकी सृजन-शक्ति है। अगर उसमे इसका अभाव है, तो वह अपने काम मे कभी सफल नहीं हो सकता। उसमे और चाहे जितने अभाव हों पर कल्पना-शक्ति की प्रखरता अनिवार्य है। अगर उसमे यह शक्ति मौजूद है तो वह ऐसे कितने ही दृश्यों, दशाओं और मनोभावों का चित्रण कर सकता है, जिनका उसे प्रत्यक्ष अनुभव नहीं है। अगर इस शक्ति की कमी है, तो चाहे उसने कितना ही देशाटन क्यो न किया हो, वह कितना ही विद्वान क्यों न हो, उसके अनुभव का क्षेत्र कितना ही विस्तृत क्यो न हो, उसकी रचना मे सरसता नही पा सकती। ऐसे कितने ही लेखक है जिनमे मानव-चरित्र के रहस्यो का बहुत मनोरंजक, सूक्ष्म और प्रभाव डालनेवाली शैली मे बयान करने की शक्ति मौजूद है लेकिन कल्पना की कमी के कारण वे अपने चरित्रो मे जीवन का सञ्चार नही कर सकते, जीती-जागती तसवीरे नहीं खीच सकते। उनकी रचनात्रा को पढ़कर हमे यह ख्याल नहीं होता कि हम कोई सच्ची घटना देख रहे है।

इसमे सन्देह नहीं कि उपन्यास की रचना-शैली सजीव और प्रभावो- त्पादक होनी चाहिए, लेकिन इसका अर्थ यह नही है कि हम शब्दो का गोरखधन्धा रचकर पाठक को इस भ्रम मे डाल दे कि इसमे जरूर कोई न कोई गूढ़ अाशय है । जिस तरह किसी आदमी का ठाट-बाट देखकर हम उसकी वास्तविक स्थिति के विषय मे गलत राय कायम कर लिया करते हैं, उसी तरह उपन्यासो के शाब्दिक आडम्बर देखकर भी हम ख्याल करने लगते है कि कोई महत्त्व की बात छिपी हुई है। सम्भव है, ऐसे लेखक का थोड़ी देर के लिए यश मिल जाय, किन्तु जनता उन्हीं उपन्यासो का आदर का स्थान देती है जिनकी विशेषता उनकी गूढ़ता नहीं, उनकी सरलता होती है।

उपन्यासकार को इसका अधिकार है कि वह अपनी कथा को घटना