पृष्ठ:सेवासदन.djvu/१५७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
१७०
सेवासदन
 

कृष्णचन्द्रने अत्यन्त ग्लानिपूर्वक कहा, मेरी दशा तो तुम देख ही रहे। हो। इतना कहतेकहते उनकी आँखोसे आंसू टपक पड़े।

उमा—आप निश्चिन्त रहिये मै सब कुछ कर लू गा।

कृष्ण—परमात्मा तुम्हें इसका शुभ फल देंगे। भैया, मुझसे जो अविनय हुई है उसका तुम बुरा न मानना। अभी मैं आपे मे नही हूँ, इस कठिन यन्त्रणा ने मुझे पागल कर दिया है। उसने मेरी आत्माको पीस डाला है। मैं आत्माहीन मनुष्य हूँ। उस नरक में पड़कर यदि देवता भी राक्षस हो जायें तो आश्चर्य नही। मुझमें इतनी सामर्थ्र्य कहाँ थी कि मैं इतने भारी बोझ को सम्हालता। तुमने मुझे उबार दिया, मेरी नाव पार लगा दी, यह शोभा नही देता कि तुम्हारे ऊपर इतने बडे कार्य का भार रखकर मैं आलसी बना बैठा रहूँ। मुझे भी आज्ञा दो कि कहीं चलकर चार पैसे कमाने का उपाय करूँ। मैं कल बनारस जाऊँगा। यो मेरे पहले के जानपहचान के तो कई आदमी है, पर उनके यहाँ नही ठहरना चाहता। सुमन का घर किस मुहल्ले में है ।

उमानाथ का मुख पीला पड़ गया। बोले, विवाह तक तो आप यही रहिये। फिर जहाँ इच्छा हो चले जाइयेगा।

कृष्णचन्द्र—नहीं कल मुझे जाने दो, विवाह से एक सप्ताह पहले आ जाऊँगा। दो चार दिन सुमनके यहाँ ठहरकर कोई नौकरी ढूंढ लूगा। किस मुहल्ले में रहती है?

उमा—मुझे ठीक याद नही है, इधर बहुत दिनों से में उधर नही गया। शहरवालो का क्या ठिकाना? रोज घर बदला करते है। मालूम नही अब किस मुहल्ले मे हो।

रातको भोजनके समय कृष्णचन्द्रने शान्तासे सुमनका पता पूछा। शान्ता उमानाथ के संकेत को न देख सकी, उसने पूरा पता बता दिया।


२८

शहरकी म्युनिसिपैलिटी में कुल १८ सभासद थे। उनमें ८ मुसलमान