पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/७१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


७.२ तुष्टु-तवपद तुशु ( पु.) तुर्ष वाइलकांत तुक । कर्ण स्थित मणि, तुहिनाजु ( पु.) १ चन्द्रमा। २ कपूर । वह मणि जो कानमें पहना जाता है। तुहुण्ड ( स० पु.) १ दनुवंशके एक दानवका नाम । तुथ ( स० पु० ) तुथ कतरि क्यप । महादेव, शिव। यह दानव बहुत पराक्रमो था । ( भारत आदि ६५ अ०) तुटतुट देखो। २ धृतराष्ट्र के एक पुत्रका नाम । ( भारत आ.१८६ अ.) तुम ( म० ए० ) तुष पृषोः यस्य सत्व । तुष, भूमी। तू (हि.स.) १ एक सर्वनाम। यह उस पुरुषके तुमो (fe at० ) प्रबके अपरका छिलका भूमो। साथ पाता है, जिसे संबोधन करके कुछ कहा जाता तुम्त ( स० क्लो० ) तुम-त । रेणु, धूल, गर्द । है। (हि. मो.) २ कुत्तोको बुलानेका शब्द । तुहमत (हिं स्त्रो० ) तोहमत देखो। न (हिंसर्व.) तू देखो। तुहर (सं. पु. ) तुह-वाहु० करगा । कुमारानुचरभेद, तूं बड़ा (हिं. पु. ) तूचा देखो। कुमारके एक अनुचरका नाम । तूंबना (हि.क्रि. ) तूमना देखो। तुहार (म. पु.) तुह-वाह. पारन । कुमारानुचरभेद, तूंचा (हिं (पु.) १ कड़ा गोल कह, तितलोको। कुमारका एक अनुचर। २ कह को खोखला करके बनाया हुपा बरतन। इसे सरिन (सं० को. ) तुद्यतेऽनेन तुह इनन् . गुणे कृत प्रायः साधु अपने माथ रखते हैं, कमण्डल । खश्च। वेपितुह्योइंस्पश्च। उण २।५२ । १हिम, तूंबो (हि स्त्रो.) १ कड़ा गोल कह । २ कह को बरफ। २ चन्द्रमाका तेज, चांदनी । ३ तुषार, कुहरा. खोखला करके बनाया हुआ बरतन । पाला। (वि.) ४ शोतन्त, ठंडा। सूटना ( हि कि० ) टूटना देखो। तुहिनकण ( स० पु०) तुहिनस्य कप:, ६-तत् । हिम• तूप ( स० पु० ) तूण्यते पूर्य ते वाण तूण पूरण घर । कण, बरफ। १ वाणाधार, तोर रखनेका चौगा, तरकश । पर्याय- तुहिमकर ( पु.) तुहिन करोऽस्य। १ चन्द्रमा। उणसङ्गा, तूणीर, निषा, इषुधि, तूणा । २ चामर नामक २ कपूर, कपूर। वृत्तका नाम तुहिनकिरण (सं० पु. ) चन्द्रमा । सूणक ( R० लो०) छन्दोविशेष, एक प्रकारका छन्द । तुहिनकिरणपुत्र (स.पु.) तुहिनकिरणस्य पुत्र-तत्। एमके प्रत्येक चरणमें १५ अक्षर होते हैं, पहलेसे ले कर १ चन्द्रपुत्र, बुध । उन्होंने ताराके गर्भ मे जन्मग्रहण किया एक एकके बाद एक एक गुरु रहता है। था। तारा देखो। तूगारूयेड़ (सं० पु.) वाण, तोर। हिनगिरि स पु०) हिमालय पर्वत। तूणधार (संपु. ) तृण धारयति धारि-अन् । तूपधारो, तुहिनगु (स.पु. ) तुहिना: गोयस्य । शोन, चन्द्रमा। वह जो तोर धारण करता हो। तुहिनदीधिति ( संपु०) चन्द्रमा । सूणव (सं० पु० } तूंणस्तदाकारोंऽस्त्यस्य केशादित्वात् सुमिना मि ( म पु ) चन्द्रमा । व, तूण तदाकार' वाति वा-क इति वा । तूणाकार तुहिनरश्मि ( म० पु. ) तुहिन, चन्द्रमा । वाद्यभेद, एक प्रकारका बाजा जिसका प्राकार तूणसा तुहिनशेल ( स० पु. ) तुहिनस्य शैल ६ तत्। हिमाल होता है। लय पर्वत। तूगवन (म० पु.) तूणवः वाद्यभेदं धमति मा-क । तुहिना (म. पु) चन्द्रमा । • तूणव बाद्य कारक, वह जो तूणव नामका बाजा तुहिनशितैल (स० क्लो०) तुहिमांशोः तसं ६ तत् । कपुर बजाता हो। तैल, कपूरका तन्न। सूणवत् (म०वि० ) तूप अस्य मतुप. मस्य । । १ सूण तुहिनाचल ( सं० पु. ) हिमालय । युक्त, धानुष्क, जो तोर चला कर अपनी जीविका तुधिनादि ( पु.) हिमालय । चलाता हो।