पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/४६६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


26 मानव-मानसानम मर गार गारभिाग। इस मनग्न भनिका तायल कर्प ६. मानप... मम्मनाम इतिहामी स्लरायलीको परीक्षा करने व उसे यताल सातामागपमय केवल मनुष्का दंगा जाता.मिने पहले बोलयुग ( Stonage)| भून ले कर हो पस्त है सो महो', पिपिपने भो गमी देशों में गिपमान था | उस समय गनुर.' यह पोछा पहा हुमा नही है। पर हां, इतना र ममात धातु पदारका नाम भीग था । पोडे फिक्तिनो उमत तथा मुगपप्राचीन जाति धरापसे पानन युग ( wronxe age) का प्रादुर्भाय हुमा, उस. गतदिन दुई ६-किरानो जागियोसा माया बाद मौरयुग। किन्तु फिमी फिमो देगर्म शैलगुग मनिभेद्य अन्धकारमें माम हुगा है, हिलगां पाद दो लोहयुगमा मापिर दुपा है। ये लोग लो- मानियां श्मशागमें लाई गाद. किन्तु मामय जातिका फा प्यपहार मोग कर जमीन जोतने लगे, साल काटने विराट् यिप्रहको भवनति गदों है। उनति दी उनकी लगे, गिरिगहरफा स्पाग फर पर्णगालामें रहने लगे। नियमयद पति है, मभिव्यक्ति हो उनको सुपतिष्ठित धीरे धीरे उन्होंने अपने समाज को परिपुष्टि कर ली। मित्तिभूमि है। कहां तथा फितनी दूर जाकर इस उमति शिल्प घोर याणिज्यका मकुर निकला। मम निक्षा की गति सफेगी यह फोन फ६ साता ? मनुया के टरकास पालन कर मनका भाव प्रकट करने लगे। मतीत जिस प्रकार मलिफापरामद गरिएको सो . सो समयस मनुष्य-समागमें परियतन स्रोत प्रबल प्रसार भनुमागका अनधिगम्य है। राधिपाद सादि यंगसं वदना मारग्म हुमा है। है पा धादि, साम्स है पासास, इस पिम्पको पाँच परिपर्सन याटफो सुदमभायसे पपांटोयना! मीमांसाफे सम्मन्य सोमायवशायिशिष्ट गनुप: को फरना ही मानपरास्यका उद्देश्य है। २०ीं गताको भी ममर्थ गदी शेगा। . सम्पमाका पिगार इसिदाम भी मागयको भायो उन्नति मागपति स० पु. ) ARTI फा सोपानमाल है। गिर्यानिकी स्तरावलोको मच्छी मानयजेक (पु०) जातिविशेष, एक प्रकारको जाता तग परीक्षा करनेसे मालूम होगा, कि उनतिको दिराम मानयर्जित (म०सि० ) मानेनजिता मानरक्षित, नहीं है। जो मनुष्य एकदिन घंटे में दो कोस न फर मानहोग। २ गांव, मप्रतिष्ठित पर माता पा, माज यदी मनुर घंटे गुगामे ५० कोस 'मानसिक (सपु... पुराणानुमार पर मायांग गल सकता है। जिसकी हर पर दिन गृहम माय.: दशा माम सोपर्य दिगा या। मौक परिवार रणहा पो हटा मही पकनी को, मात्र यदी हार अनुसार यह ये माम मामभूमि है। २ सशा पानोकपिशागतो मल गरम (N. Xay को मदापना- - हनपाला । से दुर्भर फाटको पीपारफे मौतरस दंपतो है, मैकड़ो : मागयला ( पु.) जातिभेदएक प्रकारको जाति। पोज़ग अपामे महिएन दनाको यासानीस देश, इसका दूसरा नाम मानवमं मां । पाती है. माम तथा उसके मोगर गतिक गागपशान (स.पु.) पहना Invi मारsirti को गौ भरलीकम करता है। जिगई एक प्राममे मरे, गति और शिम मादिका विधान हनास प्रामः मंगाद भेजनमें पड़ी दिकर दोनों शो मात गायरो यह भी जाना सिंमार गप्पी परमानामे पूरे प्रसाशन मागे सपा : गागोम मनुको नाता है, गमिग्याए भेगमे या मनात मला मनेगाले मनपा शापों मनुष्य RT .मनुष्योगह पर सोयरे माघ wETTE का मरमर प81, मौर पर सम्ता RRER Em गनुमा पालिका यान पर मंगमा परयादि | HATARI गोमिनो कि मना कर परिसना मामपागर . पु. पुरामानुमार RE पा Timire